लड़ाई बसपा भाजपा में हैं ।

मुझे याद है ।
2012 के चुनावी दिन थे ।
कांग्रेस का tempo high था ।
2009 में UPA2 ने अप्रत्याशित सफलता हासिल की थी और कांग्रेस तो UP में लोकसभा की 22 सीट जीत के सातवें आसमान पे थी ।
राहुल गांधी UP की जीत में दूल्हा बने घूम रहे थे ।
उधर भाजपा का all time Low चल रहा था ।
UP में बमुश्किल 10 सीट …….
रालोद जैसी पार्टियां जिनकी गिनती न तीन में है न तेरह में , वो भी 5 सीट जीत के भाजपा से बराबरी का दम भर रही थीं …….
ऐसे माहौल में 2012 का विधान सभा चुनाव आया UP में ।
राहुल बाबा के नेतृत्व में कांग्रेस बम बम थी ।
माहौल ऐसे बनाया जा रहा था मानो अबकी बार कांग्रेस सरकार ।
यूँ लगता था मानो कांग्रेस का वनवास इस बार समाप्त हो ही जाएगा ।
कांग्रेसी नेताओं में इस बात को ले के खींच तान शुरू हो गयी कि कौन बनेगा मुख्य मंत्री ???????

पर जब नतीजा आया तो फुसस्सससस्स ……..
कुल जमा 28सीट पे सिमट के रह गयी कांग्रेस ।
भाजपा की भी दुर्दशा हुई । कुल जमा 47 सीट आयी ।
कहने का मतलब ये की उन दिनों भाजपा की औकात रालोद और कांग्रेस जैसी थी UP में ।
2012 में बसपा को हरा के सपा चुनाव जीती । अखिलेश भैया की साइकिल आसमान में उड़ी जा रही थी । अहीरों ने पूरे UP में बमचक मचा रखा था ।
ऐसे में मोदी जी ने गुजरात में लगातार तीसरी बार चुनाव जीता और कूद पड़े राष्ट्रीय राजनीति में ……. और प्रधान मंत्री पद के लिए अपनी दावेदारी पेश कर दी ……
उस समय , जबकि UP में भाजपा अभी ताजा ताजा अपनी मिट्टी पलीद करा के बैठी थी , राजनीति के पंडितों ने सवाल उछाला …….. हम्ममम्म ……. प्रधान मंत्री बनोगे ???????
कहाँ से लियाओगे सीट ?
जानते हो …….. 272 सीट लगता है परधान मंतरी बनने को …….
कहाँ से लियाओगे हेतना सीट ?

मोदी जी ने जवाब दिया ……. अब लड़ेंगे तो सीट भी आ ही जाएगा ………
अच्छा ??????? आ जाएगा ? अबे ठेले पे बिकता है का ? जो आ जाएगा ???????
अच्छा ई बताओ …….. ऊपी में केतना सीट जीत के PM बनोगे ।
तब IBTL में एक लेख छपा ।
IBTL कुछ right wing टाइप पोर्टल था । उसने कहा कि भाजपा UP में 20 सीट जीतेगी ।
20 सीट सुन के सेक्युलर leftist मीडिया और जनता ने खूब मज़ाक बनाया ……. ये मुह और मसूर की दाल ? Huhhhhh ……. 20 सीट …… सीट मानो पेड़ पे लगती है ……. गए और तोड़ लाये ।
खैर …….. मोदी जी भाजपा के अंदर खुद को PM प्रत्याशी घोषित करने के लिए संघर्षरत थे । उधर देश में आपकी लोकप्रियता का ग्राफ निरंतर बढ़ रहा था ।
2012 में UP में भाजपा की ये समस्या थी कि इनके पास UP में सिर्फ और सिर्फ बनिया / सुनार वोट बचा था । यहां गक कि मजबूरी में ठाकुर तक छोड़ गए थे ।
2013 में जब मोदी जी PM प्रत्याशी के तौर पे उभरने लगे तो भाजपा में सबसे पहले जो वर्ग लौटा वो ठाकुर थे । जिनके साथ साथ ही ब्राह्मण और भूमिहार भी आ चढ़े । अब समस्त सवर्ण और बनिया व्यापारी भाजपा के साथ था ।
ऐसे में IBTL में फिर एक लेख छापा ……… UP में भाजपा 35 सीट ।
Leftist सेक्युलर मीडिया ने फिर खारिज कर दिया ।
Mid 2013 ……. मोदी जी को भाजपा ने तमाम खींच तान उठा पटक के बाद PM प्रत्याशी घोषित कर सिया । IBTL ने लिखा …….. UP में भाजपा 45 सीट …….. लोगों ने कहा पागल हैं …….
मीडिया अब भी भाजपा को 160 सीट दे रहा था देस भर में ……. और सवाल पूछता था कि समर्थन कहाँ से जुटाओगे ……. मोदी तो अछूत है …… आडवाणी होते तो शायद जुटा भी लेते ।
UP में भाजपा की समस्या ये थी कि इसकी पहचान शहरी और सवर्ण और बनियों की पार्टी के रूप में थी । OBC और दलित वोट नदारद थे ।
ऐसे में अमित शाह जी ने UP की कमान सम्हाली और मृत पड़े संगठन को ज़िंदा करना शुरू किया । भयंकर गुट बाजी थी । बीसियों नेता थे और सब के सब PM और CM material थे । नेता भारी भरकम और औकात इतनी भी नहीं कि अपनी सीट निकाल लें । ऐसे मृतप्राय संगठन में अमित शाह और मोदी जी ने जान फूंकी ।
बड़े नेताओं को धीरे धीरे दरकिनार किया ……. नहा नेतृत्व खड़ा किया ……. माहौल बनने लगा । गरमाने लगा । पर अब IBTL की हिम्मत न हुई कि वो 45 से ऊपर जाए ।
ऐसे में हमारे जैसों ने SM पे लिखना शुरू किया ……… 55
सो मेरे एक मित्र हैं । वो हैदराबाद के एक हिंदी अखबार के उप संपादक हैं ।
बोले …… का पहलवान ? भांग खाये हो का ? 55 ??????
मने राम लहर से भी आगे ……..
मैंने उन्हें जवाब दिया ……. राम लहर क्या थी ??????
यहां सुनामी बह रही है ।
चुनाव सिर पे था । टिकट वितरण की उठापटक के बाद जब तस्वीर साफ हुई तो मैंने एक दिन लिखा ……… क्या इस बार हम गाज़ीपुर भी जीत रहे हैं क्या ???????????
क्योंकि लक्षण मिलने लगे थे । और गाज़ीपुर की सीट पूरी UP में भाजपा के लिए सबसे कठिन सीट है ……. जातीय समीकरण ही ऐसे हैं ।
चुनाव में बमुश्किल 10 दिन थे
अंतिम चरण चल रहा था ।मैंने अपने जिले की वोटिंग से कोई 4 दिन पहले लिखा कि हम गाज़ीपुर जीत रहे हैं …….. जल प्रलय होगी ………
Result आया तो सब बह गया । सुनामी सब बहा ले गयी ।
73 सीट …….. सीटें वाकई पेड़ पे लगती हैं ।
पर उस पेड़ को सीचना सहेजना पड़ता है ।

बहरहाल ……. चुनावी मंच फिर सजा है UP में ।
वही अमित शाह हैं और वही मोदी जी हैं ।
और leftist secular मीडिया की वही जड़ता है ।
आज भी राजनीति के पंडितों को भरोसा नहीं ।
या यूँ कहिये कि भरोसा करना नहीं चाहते ।
हालांकि विधान सभा का चुनाव लोक सभा से अलग होता है ……. मुद्दे अलग होते हैं ……. क्षेत्र छोटे होते हैं , स्थानीय factors होते हैं …….. हार जीत का मार्जिन बहुत कम होता है ……. बहुकोणीय मुकाबला हो तो आकलन मुश्किल हो जाता है ……… पर इसके बावजूद ……. चुनाव के basics नहीं बदलते ।
अब जबकि UP में पहले चरण की voting में सिर्फ दो दिन बचे हैं ………..
सवाल है कितनी सीटें ????????
220 में दाग नहीं है ।
जस जस चुनाव होता जाएगा , आकलन ये होगा कि 220 से कितना ऊपर ।
मने 240 ????????
260 ?????????
या 280 ???????????
या फिर 300 ???????

पर इतना तय है कि पिछले 3 दिन में सपा पिछड़ी है और बसपा ने improve किया है ।
आज भाजपा की लड़ाई बसपा से है ।
कांग्रेस से गठबंधन कर सपा पीछे छूट गयी ।
कांग्रेस इतनी भारी है कि वो सपा को ले डूबेगी ।
लड़ाई बसपा भाजपा में हैं ।
परिदृश्य रोज़ बदल रहा है ।
इंतज़ार कीजिये ।

ऊपी के अराजक तत्वों को ये साथ पसंद है

बहुत पहले , जब कि बिहार में लालू का शासन था , सवाल पूछा गया कि आखिर लालू बिहार में क़ानून बेवस्था सुधारने के लिए काम क्यों नहीं करते ?
जवाब में एक राजनैतिक विश्लेषक ने बताया कि लालू का भोटर अराजकता को पसंद करता है । लालू का भोटर अराजकता में ही फलता फूलता है ।
एक बार लालू जी किसी गाँव में जनसभा को संबोधित कर रहे थे ।
किसी ने सवाल किया कि पिछली बार जब आये थे तो आपने वादा किया था कि नदी पे पुल बनेगा और गाँव तक सड़क बनेगी ……. क्या हुआ ?????
लालू जी ने जवाब दिया ……. अरे पुलवा अ सड़किया बन जाई त पुलिस क जीप भुर्र देना गाँव में आ जाई …….. त गांजा के खेती कइसे होई ?????

एक अन्य जनसभा में ऐसे ही जब सड़क के लिए सवाल पूछा गया तो लालू जी ने जवाब दिया कि सड़क अगर नहीं बनी तो इस से तुमको क्या फर्क पड़ता है जी ?????
अरे तुमको तो गाँव खेत की पगडण्डी पे ही न चलना है ? सड़क पे तो बाबू साहब की जीप न दौड़ेगी ???????

ऐसे थे लालू जी और ऐसे थे उनके भोटर …….

कल देस के युवराज UP के युवराज के साथ ऊपी की राजधानी लखनऊ में रोड शो कर रहे थे । इन दोनों लौंडों ने ये नारा दिया है कि ऊपी को ये साथ पसंद है …….
मज़े की बात है कि दोनों लौंडों का roadshow मुस्लिम बहुल इलाकों में हुआ । अब मुस्लिम इलाके का मतलब होता है मुफलिसी , गरीबी , पिछड़ापन , anarchy , अराजकता , मिमियाती बकरियां , बजबजाती नालियां …….. मुस्लिम इलाका मने वो इलाका जहां पुलिस भी दिन में जाने से घबराए ……. खांटी मुस्लिम इलाका वो जहां से हिन्दू बेचारा अपना घर दूकान मकान बेच के या ताला लगा के भागने को मजबूर हो जाए ……..
मुस्लिम इलाका मने कैराना ……. एक लाख की आबादी वाले कैराना में एक भी petrol pump नहीं है ……. एक भी ढाबा , होटल धर्मशाला नहीं है ……. तो ऐसे ही एक मुस्लिम इलाके में कल दोनों लौंडे युवराज road show कर रहे थे । ये दोनों लौंडे वो हैं जो कि देश की सबसे प्रभावशाली first families के चश्मो चिराग हैं ……. मने कल तक इनके मूत से चिराग जलते थे देस में ……. cabinet का अध्यादेश फाड़ दिया करते थे भरी सभा में , National TV पे ……. तो कल ये दोनों सर्व शक्तिमान लौंडे प्रदेश की राजधानी में road show कर रहे थे ……… मुस्लिम इलाके से निकलने लगे तो बिजली की चोरी करने वाली कटिया – तारों के जंजाल ने इनका रास्ता रोक लिया …….. इन्हें घेर लिया ……..
और बजाय इन कटियाबाजों की तार हटाने के , दोनों युवराजों ने घुटने टेक दिए ……. उन तारों के सामने सिर झुका दिया , नत मस्तक हो गए …… surrender कर दिया ।
देश के दो कर्णधारों ने अराजकता के सामने surrender कर दिया ।

पुराने लखनऊ में बिजली की चोरी रोकने के लिए और तारों के जंजाल से लखनऊ को मुक्त करने के लिए LESA मने Lucknow Electricity Supply Administration को 100 करोड़ का बजट दिया गया था ।
लक्ष्य था कि शहर की तमाम बिजली की तारों को Under Ground कर दिया जाए जिस से बिजली चोरी भी रुक जाए , और शहर भी तारों के जंजाल से मुक्त हो जाए ।
LESA की टीम जब तार डालने के लिए गड्ढा खोदने पहुंची तो भाई जान लोग ने डंडा ले के दौड़ा लिया……. अगर तार जमींदोज हो गए तो कंटिया कैसे लगेगी ? बिजली चोरी कैसे होगी ?
सपा और कांग्रेस बिजली चोरी की अराजकता को पसंद करता है , शहर में तारों के जंजाल को पसंद करता है ……. ऐसे में जाहिर है कि दोनों युवराज लौंडे इस अराजक भोट बैंक के सामने नत मस्तक हैं ……. दंडवत हैं …… घुटनों पे हैं ……..

ऊपी के अराजक तत्वों को ये साथ पसंद है

सपा कांग्रेस गठबंधन क्या गुल खिलाता है ?

UP और बिहार की राजनीति का एक मूल तत्व है ।
जातीय भोट बैंक ।

पिछले दिनों मैं राजस्थान में था ।
एक मित्र बताने लगे के वसुंधरा जी के प्रति आमतौर पे नाराजगी है इसलिए अगली बार यहाँ कांग्रेस की वापसी तय है ।
मैंने उनसे पूछा , राजस्थान के राजपूत और जाट किसे भोट देते हैं ?
किसी को नहीं देते …….. और सबको देते हैं ।
हर चुनाव में एक नयी पार्टी को भोट देते हैं राजस्थान के लोग ।
यहां कोई जाति किसी एक पार्टी की बंधुआ भोटर नहीं ।

जब किसी राज्य में लोगों की ऐसी राजनैतिक सोच होती है , AAP जैसी नयी parties को पैर जमाने की ज़मीन मिल जाती है ।

UP और बिहार में ऐसा नहीं है ।
वहाँ कोई व्यक्ति किसी पार्टी को भोट नहीं देता ।
एक जाति भोट देती है ।
अहीर सब सपाई हैं ।
चमार हरिजन जाटव सब भेन मायावती के बंधुआ भोटर हैं । पहले किसी ज़माने में कांग्रेस के थे ।
पिछले 20 साल से ठाकुर मूलतः भाजपाई हैं । बहुत मजबूरी में जब भाजपा के पराभव के दिन थे तो इधर उधर सपा बसपा में मुह मार लेते थे पर इनका मूल चरित्र भाजपा का है । यूँ इसे भाजपा नहीं बल्कि Anti congress कह सकते हैं । क्योंकि 70 के दशक में UP के ठाकुर चौधरी चरण सिंह जी को नेता मानते थे । फिर जनता पार्टी , जनता दल , VP सिंह से होते हुए भाजपा तक आये ।
ब्राह्मण मूलतः कांग्रेसी हैं । कांग्रेस का जब से पराभव हुआ , बेचारे ब्राह्मण लाचार अनाथ टूअर बने विचर रहे हैं । मूल चरित्र कांग्रेसी है पर TINA factor के कारण कभी बसपाई बन जाते हैं तो कभी भाजपाई ।
2007 में एक मुश्त सतीश चंद्र मिसिर के नेतृत्व में बहिन जी की गोद में जा बैठे । 2012 में अखिलेश की गोद में , 2014 में भाजपाई हुए और अभी फिलहाल भाजपा में हैं । कल क्या करेंगे राम जाने ।
पूर्वी UP के पटेलों ने ” अपना दल ” बना रखा है ।
राजभर समाज की अलग पाल्टी है ।
भूमिहार , वैश्य समुदाय सब भाजपाई हैं । हालांकि नोटबंदी के बाद व्यापारी वर्ग / वणिक समुदाय कुछ निराश नाराज है और इनका कुछ प्रतिशत भोट सपा बसपा में जा सकता है पर बहुत ज़्यादा नुक्सान नहीं होगा । आखिर दशकों की निष्ठा भी कोई चीज़ होती है । अलबत्ता स्वर्णकार-सुनार 1% excise को ले के बहुत ज़्यादा नाराज हैं । अब देखना ये है कि भोट देंगे या नहीं ।

2014 से पहले UP में भाजपा की सबसे बड़ी कमजोरी ये थी कि इसके ऊपर बणियों और सवर्णों शहरियों की पार्टी का ठप्पा लगा हुआ था ।
मोदी जी के नेतृत्व में 2014 में पहली बार भाजपा OBC मने तथा कथित पिछड़ों और दलितों में पैठ बनाने में कामयाब रही ।
आज लगभग समूचा गैर यादव OBC और काफी हद तक गैर चमार-जाटव दलित भाजपा के साथ है ।
पश्चिम का जाट समाज जो पारंपरिक तौर पे चौ. चरण सिंह के साथ रहा अब ( फिलहाल ) तो भाजपाई है । आगे राम जाने ।

भाजपा की कामयाबी और सपा बसपा कांग्रेस की कमजोरी का यही मूल कारण है ……… जातीय समीकरण । 1990 से 2012 तक सपा बसपा की कामयाबी का जो दौर चला उसका मूल कारण था कि सपा के पास मुस्लिम यादव के अलावा लगभग समूचा OBC और कुछ सवर्ण भोट रहा और बसपा के साथ समूचा दलित , tactical voting के कारण मुसलमान , और एक बार ब्राह्मण भोट रहा ।
2009 में जब कांग्रेस UP से 22 सांसद जिता ले गयी तब इसके पीछे मुसलमानों की सपा से नाराजगी ( कल्याण सिंह को ले के ) के कारण पश्चिमी UP में मिला भोट था । इस तात्कालिक सफलता से कांग्रेस को ऐसी ग़लतफ़हमी हुई कि वो 2012 में UP में सरकार बनाने तक के सपने लेने लगी थी और कांग्रेसियों में मुख्य मंत्री पद को ले के खींच तान गुटबंदी शुरू हो गयी थी । नतीजे शर्मनाक आये क्योंकि मोमिन सब वापस सपाई हो गए ।

UP की राजनीति के इसी चरित्र को देखते हुए मैं 2017 के इस विस् चुनाव में भाजपा की सफलता को ले के बहुत ज़्यादा आश्वस्त हूँ ।
भाजपा अपने सहयोगी दलों के साथ 2014 में लगभग 44 % भोट ले चुकी है । इसमें कमोबेश कोई ख़ास कमी नहीं आयी है बल्कि कुछ जातियों में इज़ाफ़ा ही हुआ है ।
बेशक नामाजवादी नौटंकी से वो यादव भोटर जो 2014 में भाजपा के साथ आया था वो वापस सपाई हो गया । बाकी सब intact है ।
चूँकि विस् और लोकसभा चुनावों का मूल चरित्र अलग होता है और विस में स्थानीय मुद्दे और local candidate का भी महत्त्व होता है फिर भी हम ये मान के चल रहे हैं कि 17 में भाजपा 44 % से नीचे आ के 34% से शुरू करेगी । जस जस चुनाव गरमाएगा , पिक्चर क्लियर होगी ।
Final result कुछ ऐसा होगा ।
अगर भाजपा ने
30% भोट लिया तो 220 सीट
32% पे 250
34 % पे 280
36 % पे 310
और अगर 38% या उस से भी ज़्यादा पायी तो जल प्रलय होगी ।

देखना सिर्फ ये है कि सपा कांग्रेस गठबंधन क्या गुल खिलाता है ?

UP चुनाव

इस्माइल मेरठी (Ismail Meeruti) साहब का एक शेर है ……..

अर्ज किया है ……..

उल्फत का जब मजा है कि वो भी हों बेकरार,
दोनों तरफ हो आग बराबर लगी हुई।

और इसी शेर की तर्ज पे ……..

गठबंधन का तब मज़ा है कि दोनों ही हों बेजार ……..
औ दोनों तरफ हो गाँड …………… बराबर फटी हुई

UP में सपा और congress का गठबंधन होगा ज़रूर ।
क्योंकि दोनों मने अखिलेश औ राहुल ……. मने सपा औ कांग्रेस …….
भाजपा औ मोदी के मारे , दोनों की है गाँड बराबर फटी हुई ।

राहुल बाबा जानते हैं कि अगर गठबंधन न हुआ तो कांग्रेस की 5 सीट नहीं आएगी इस बार UP में ।
और कितना ही विकास का तंबू तान लें , सपा के लिए बिना गठबंधन 50 का आंकड़ा छूना मुश्किल है ।

Congress की जमीनी स्थिति ये है की कांग्रेसी वोटर जैसी कोई चीज़ UP में अब नहीं बची है । कुछ एक सीटों पे कुछ ऐसे लोग है जिनका अपना व्यक्तिगत भोट है …….. वो एक तरह से निर्दल लोग हैं …….. congress छोड़ अगर निर्दल भी लड़ जाएँ तो जीत जाएंगे । ऐसे 5 – 7 लोग कांग्रेस के टिकट पे लड़ के जीत जाते है इसलिए congress का खाता खुल जाता है UP में । ऐसी सीटों पे कुछ भोट उस प्रत्याशी की जात का और कुछ मुस्लिम भोट मिल के वो सीट जीती जाती है ।

मोदी जी ने पिछले 5 साल में सपा से उसका गैर यादव OBC वोट छीन लिया है ।
इसी तरह मायावती के दलित भोट बैंक में से मोदी जी ने गैर चमार – जाटव भोट में बड़ी सेंध लगायी है ।

सपा congress गठबंधन का सबसे बड़ा नुकसान BSP को होगा जहां उसका मुस्लिम भोट खिसक के सपा- cong के साथ आ जाएगा ।
मुस्लिम भोट बेशक एकमुश्त सपा को पड़ेगा जिसकी प्रतिक्रिया में हिन्दू भोट का counter polarization होगा ।

हालफिलहाल स्थिति ये है कि सपा – congress गठबंधन पूरी जोड़ जुगत के बाद भी 26 – 27 % तक पहुँच पायेगा जबकि इस चुनाव में भाजपा शुरुआत ही 34 % भोट के साथ करेगी जो campaign के साथ बढ़ेगा ।

यदि भाजपा ने 30% भोट लिया तो 220 सीट
32 % लिया तो 240 – 250
34% पे 260 से 280
36 % पे 300 +

आज की तारीख में सबसे खराब स्थिति BSP की है ।
यही हालत रही तो हाथी फिर अंडा दे सकता है ।
सिर्फ चमार – जाटव के बल पे तो 10 सीट आनी मुश्किल है ।

फिलहाल इंतज़ार कीजिये ……. टिकट वितरण और नाम वापसी होने दीजिए ।
तभी picture clear होगी ।

ई सुहागरात पे सोहर काहें गा रहा है बे ?

अरे ओ साम्भा …….
अखिलेसवा तो बोलता था कि लखनऊ वाले शान से चलेंगे अब सम्मान से …….
अ टीभी पे विज्ञापन देखा देखा के कान पका दिया ……..
अ अभी पुष्कर दद्दा बता रहे थे कि अभी तो लखनऊ आगरा एक्सप्रेस वे में बहुत जायदे काम बाकी है । अभी कम से कम दुइ साल लगेगा expressway को पूरा होने में ……..
करे साम्भा ?
भइंस आज धनाई है ……. अभी गाभिन हुई कि नहीं हुई ई महिन्ना भर बाद पता चलेगा ……. अ ई सार जादो जी इन्नर खाये के न्योता पूरे गाँव को अबहियें बाँट दिए बे ……..

अबे ई सुहागरात पे सोहर काहें गा रहा है बे ?
अभी लखनऊ आगरा एस्प्रेस वे का चौथा महिन्ना चल रहा है ।
अभी तो पेटवो नहीं फूला है ।
अ ई ससुरा दाई बुलवा के पानी गर्म करवा रहा है ।

मैंने जीवन में पहली बार देखा है कि आधी अधूरी परियोजनाओं का उदघाटन किया जा रहा है ।
अपनी पीठ खुद थपथपाई जा रही है ।
जादो जी कब तक चूतिया बना के भोट लोगे ?
Public को और कितना चूतिया बनाओगे दोनों बाप बेटा ?

BiMaRU tag वाले 4 राज्य हुआ करते थे देश में । UP बिहार MP और राजस्थान ।
इन चार में से दो तुमसे मीलों आगे निकल चुके हैं । बिहार पिछले 8 – 10 साल में तुम्हारे बराबर आन खड़ा हुआ है ।
एक ज़माना था कि MP एक बेहद backward state था । वहां की दशा देख रोना आता था ।
आज शिवराज का MP देख के जी खुश हो जाता है ।
MP के state highway 4 lane हैं …… दूर दराज के गाँवों में 24 × 7 बिजली आती है ।
उद्योग धंदे लग रहे हैं । क़ानून बेवस्था दुरुस्त है । लोगों का जीवन स्तर सुधर रहा है । रोज़गार के लिए लोगों का पलायन रुक गया है ।
इसके विपरीत UP की बेहाली का बयान नहीं किया जा सकता ।

ये एक स्थापित सत्य है कि जहां भी , जिन राज्यों में भाजपा की सरकार रही है वहाँ विकास हुआ है और लोगों का जीवन स्तर सुधरा है ।

UP का कल्याण सिर्फ और सिर्फ भाजपा ही कर सकती है ।
ये बात UP वालों को समझ लेनी चाहिए ।

साइकिल गयी कबाड़े में हाथी चढ़ गया भाड़े में अब कोई नहीं अखाड़े में …….. सिर्फ मोदी ………

बॉलीवुड की हिंदी फिल्म का हीरो सर्वगुण संपन्न होता है ।
भलामानस , अव्वल दर्जे का चरित्रवान …… मने फिल्म की हेरोइन और vamp उस से चिपटी रहती हैं , उसे खींच खींच के अपने बेडरूम में ले जाती है पर वो पट्ठा लंगोट का इतना पक्का …… हनुमान जी का ऐसा भगत कि vamp और हेरोइन दोनों को अपनी बहन मानता है ।
हीरो के दो चार यार दोस्त चेले चमाट होते हैं जो हमेशा उसके इर्द गिर्द मंडराते उसकी चम्पी किया करते हैं ।
हीरो एक नंबर का चूतिया , जब लाश से टकराता है तो सीने में घुसे चाकू को पकड़ लेता है ……. और ठीक उसी मौके पे या तो पुलिस आ जाती है या फिर कोई और …… फिर ये पुक्का फार के रोता है कि नहीईईईईईई …….. मैंने खून नहीं किया ……..
फिर जब ये जेल चला जाता है तो उसका वो वफादार दोस्त बार बार एक ही फ़िल्मी डायलॉग बोलता है ……… मेरा दिल कहता है , मेरा दोस्त खूनी नहीं हो सकता ……. कह दो कि ये झूठ है …….

मोदी haters को अब भी भरोसा नहीं कि नामाजवादी कुनबे में वाकई जंग छिड़ी है ।
वो कहते हैं ……. नहीं ऐसा नहीं हो सकता …… मेरा दिल कहता है की ऐसा नहीं हो सकता ……. कह दो कि ये झूठ है । नामाजवादी कुनबे में झगड़ा नहीं हो सकता ।
17 जनवरी को चुनाव की अधिसूचना जारी हो जायेगी ।
बाप बेटे चचा भतीजा भाई भाई कुत्ते की तरह लड़ रहे हैं ……. एक दुसरे को नोच खसोट रहे ।
मोदी haters को फिर भी लगता है कि कोई बुरा सपना है ……. भ्रम है ……. सुबह जागेंगे तो सब ठीक होगा …….. उधर चुनाव आयोग कंफूज है ।
रामगोपाल 6 पेटी कागच जिनकी संख्या कुल डेढ़ लाख है धर आये चुनाव आयोग में ।
अमर सिंघवा बोल दिया सब फ़र्ज़ी है करो जांच ……..
चुनाव आयोग बोलता है इतना सब कागच जांचने में तो 6 महिन्ना लगेगा । उधर 10 दिन बाद अधिसूचना जारी हो जायेगी ।
अपने दुआर में कुकुर झौं झौं करने वाले कुत्तों को मालिक चार डंडा मार के दुत्कार देता है । बहुत संभव है कि चुनाव आयोग दोनों बाप बेटा को GPL मार के भगा देगा और चुनाव चिन्ह साइकिल को फ्रीज़ कर देगा मन
अखिलेश कांग्रेस से चुनावी pact के मूड में हैं ।
ऐसे में तय है कि अखिलेश गुट की कम से कम 100 सीट cong को जायेगी मने 100 नामाजवादियों का टिकट कट के कांग्रेसियों को मिलेगा ।
ऐसे में वो 100 क्या चुप बैठेंगे ?
दूसरी तरफ सिपाल मुलायम गुट भी कम से कम 250 से 300 प्रत्याशी मैदान में उतारेगा । UP की हर सीट पे सपा से टिकट मांगते 4 – 6 गंभीर प्रत्याशी हैं । हर सीट पे दो चार करोड़पति टिकट मांग रहे हैं । सिपाल का अब एकमात्र लक्ष्य है ……… अखिलेश को हराना ……..
सिपाल मुलायम अगर किसी को टिकट दे देंगे तो वो 10 – 20 हज़ार भोट तो ले ही मरेगा ।

एक तर्क दिया जा रहा है कि सपा अगर बँटी तो मुसलमान enblock बसपा में shift कर जाएगा ।
काश चुनावी राजनीति में सब कुछ इतना ही सीधा सपाट होता ।
हर मुस्लिम बहुल सीट पे 2 – 3 या 4 प्रत्याशी होंगे । सब वोट काटेंगे ।
2014 के लोस चुनाव में मोदी की सुनामी आती हुई साफ़ दिख रही थी इसके बावजूद मुसलमान एकतरफा enblock voting कर उसे रोक न पाए और बह गए ।

आपको दीखे चाहे न दिखे …….. UP में मोदी की सुनामी आ रही है ……. सब कुछ बहा के ले जाएगी ……. अईकील सईकील आथी हाथी सब बह जाएगा ……..
कोई आजपा भाजपा नहीं ……. कोई कमल नहीं …….. भोट पडेगा मोदी को ……. भोट पडेगा विकास के एजेंडे पे ………. भोट पडेगा भ्रष्टाचार के समूल नाश के लिए …….. भोट पडेगा प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिये ……… भोट पडेगा 24 घंटे बिजली के लिए ……. भोट पडेगा शानदार सड़कों के लिए …….. भोट पडेगा गुंडे बदमाशों के खिलाफ ……… भोट पडेगा जातिवाद के खिलाफ ……. भोट पडेगा हिंदुत्व के लिए …….. भोट पडेगा कटुओं की औकात बताने के लिए ।

साइकिल गयी कबाड़े में
हाथी चढ़ गया भाड़े में
अब कोई नहीं अखाड़े में …….. सिर्फ मोदी ………

किसी एक को मरना होगा । कौन मरेगा ? मोलायम या अकलेस ?

इतिहास खुद को दोहरा रहा है क्या ?
बात 1966 की है ।
लाल बहादुर शास्त्री के बाद इंदिरा गाँधी PM बनी थी ।
उनके नेतृत्व में 67 में चुनाव हुए तो कांग्रेस ने अब तक का सबसे खराब प्रदर्शन किया । सिर्फ 283 सीट आई । बहुमत से बमुश्किल 20 सीट ज़्यादा ।
जब शास्त्री जी मरे थे तो इंदिरा उनके मंत्रिमंडल में सूचना एवं प्रसारण मंत्री थी । उन्हें गूंगी गुड़िया कहा जाता था । वो सिर्फ एक खूबसूरत चेहरा भर थी जिसके नाम के आगे गांधी नेहरु लगा था ।
शास्त्री के बाद कांग्रेस के तत्कालीन अध्यक्ष कामराज ने तो अपनी तरफ से एक कठपुतली
बैठाई थी कुर्सी पे ……. सत्ता की चाभी उनके पास थी । उनके अलावा मोरारजी भाई देसाई , निजलिंगप्पा , नीलम संजीव रेड्डी , हितेंद्र देसाई , सत्येन्द्र नारायण सिन्हा , चन्द्र भानु गुप्त और वीरेन्द्र पाटिल जैसे दिग्गज थे कांग्रेस में ……… पर PM बनते ही इंदिरा गाँधी ने रंग दिखाना शुरू किया और इन वट वृक्षों की छाया से बाहर आ गयी ।
12 Nov 1969 को तत्कालीन अध्यक्ष निजलिंगप्पा ने अपनी PM इंदिरा गाँधी को अनुशासन हीनता के लिए पार्टी से निकाल दिया ……… इंदिरा ने अलग हो के नयी पार्टी बना ली ……. सारे बूढ़े खलीफा एक तरफ , गूंगी गुड़िया अकेली एक तरफ …….. इंदिरा गाँधी की कांग्रेस ( O ) और कामराज वाली Cong ( R ) …….. पार्टी दो फाड़ हो गयी ।
तत्कालीन कांग्रेस working committee के 705 मेंबर्स में से 446 इंदिरा गाँधी के साथ हो गए ।
पुरानी कांग्रेस जिसमे कामराज के साथ सब बूढ़े थे , वो उन दिनों सिंडिकेट कहलाती थी और इंदिरा की कांग्रेस इंडिकेट ……..

1971 में अगले आम चुनाव हुए । इंदिरा गाँधी ने 43.6% भोट के साथ 352 सीट जीत के बम्पर सफलता अर्जित की । सिंडिकेट के बुढवों को जनता ने नकार दिया । उनको सिर्फ 10 % भोट और सिर्फ 16 seats मिली ।
लोकतंत्र में राजा वो जिसके साथ जनता ……. भोटर ।

UP में वही तमाशा चल रहा है ।
पप्पू अखिलेश अपने बूढ़े घाघ बाप और चाचा की छाया से निकल के बाहर आ गया है ।
कल रात शहजादे सलीम ने अकबर के खिलाफ बगावत का बिगुल फूंक दिया ।
कहता है कि 265 सीट पे बागी उम्मीदवार लड़ाऊँगा …….. पार्टी मुख्यालय में निष्कासन का पत्र type कर के रखा है । सिर्फ मुलायम के sign होने बाकी हैं ।
सवाल है कि भोटर किसके साथ जाएगा ।
यादव वोटर confused है । बूढ़े बुजुर्ग मुलायम के साथ हैं तो युवा अखिलेश के साथ । जिलों में पुराने नेता मुलायम के साथ हैं तो नए अखिलेश के साथ ।

71 में जनता के सामने विकल्प सीमित थे । या सिंडिकेट या फिर इंडिकेट । उनके लिए चुनाव आसान था । उन्होंने इंदिरा को चुन लिया । आज UP की जनता के सम्मुख 4 विकल्प हैं ।
मोदी , मायावती , मुलायम या अखिलेश ।
आज की स्थिति में अखिलेश 3rd या 4th position के लिए लड़ रहे हैं ।
Gold और Silver मैडल तो तय है ।
सपा के भोटर ……. यादव : 35 % मोलायम , 35 अखिलेश , बाकी 30 % भाजपा ।
मुसलमाँ बेचारा …….. खरबूजा कटेगा और सबमे बंटेगा ……… पहले 3 जगह बँटना था अब 4 जगह बंटेगा । 40 % बसपा बाकी 60 % में 4 हिस्से ……..

असली लड़ाई 2017 के बाद शुरू होगी जब सपा में सिंडिकेट और इंडीकेट होगा ।
किसी एक को मरना होगा । कौन मरेगा ?
मोलायम या अकलेस ?

UP में आंधी चल रही है । सब उड़ा ले जायेगी ।

मैं जब भी UP के आगामी विस चुनाव का विश्लेषण करता हूँ तो कहता हूँ ……. BJP क्लीन स्वीप करेगी । यदि कोई महाठगबंधन न हुआ ……. ऐसा ठगबंधन जिसमे हाथी साइकिल पे चढ़ जाए और उस हाथी पे राहुल बाबा बैठे हों ……. यदि ऐसा हो तभी BJP रुकेगी वरना UP में माया मुलायम का सूपड़ा साफ़ है .
मेरे मित्र पूछते हैं कि आपके इस आशावाद का कारण क्या है ?
दो कारण हैं ।
पहला जातीय समीकरण ।
UP में कोई व्यक्ति किसी पार्टी को भोट नहीं देता ।
जातियों के समूह किसी पार्टी को भोट करते हैं । व्यक्तिगत भोट मायने नहीं रखता । वो नगण्य होता है । चुनाव से पहले ये पता चल जाता है कि कौन सी जाति किस क्षेत्र में किसे वोट कर रही है । 2017 की विशेषता ये है कि भाजपा ने ये जातीय समीकरण साध लिए है ।
सवर्ण और गैर यादव OBC भाजपा खेमे में आ गए हैं । इसके अलावा दलितों में भी गैर चमार जाटव दलित भोट बैंक में भाजपा ने बहुत बड़ी सेंध लगाई है ।
अब बचे यादव और चमार जाटव ……. तो पूर्वी UP की ये दशा है कि 20 से 30 % यादव चमार भी भाजपा को भोट देने का मन बना चुके हैं । भाजपा ने 2014 की तुलना में अपना जातीय जनाधार बढाया है । इसके अलावा Floating भोट का भी एक बहुत बड़ा हिस्सा POK में surgical Strike और नोटबंदी के बाद भाजपा के पक्ष में आया है । सवाल उठता है कि नोटबंदी से उपजी परिस्थितियाँ और उस से उत्पन्न मंदी कितना असर डालती है । वैसे यदि चंडीगढ़ के हालिया चुनावों का रुझान देखा जाए तो नोटबंदी से भाजपा को लाभ हुआ है और पंजाब की anti incumbency के बावजूद congress का सूपड़ा साफ़ हो गया जबकि केजरीवाल ने बेहद शातिराना चाल चलते हुए चुनाव से withdraw कर congress को walk over दे दिया था जिस से कि भाजपा विरोधी भोट का बँटवारा न हो और सारा भोट congress को मिले ……..
इसके बावजूद कांग्रेस का सूपड़ा साफ़ हो गया चंडीगढ़ में । इस से पता चलता है कि नोटबंदी से भाजपा को फायदा है नुकसान नहीं ।

अब मेरे आशावाद का दूसरा कारण है समाजवादी कुनबे की कलह ।
नोटबंदी के बाद अचानक जादो कुनबे के कलह के समाचार आने बंद हो गए ।
पर कल अकललेस जादो ने फिर एटा में ताल ठोक दिया ।
उन ने अपने खेमे के 70 युवा MLAs से कही ……. टिकट की चिंता मति करो …… जाओ …… अपने अपने क्षेत्र में जाओ और सरकार के कामकाज का परचार परसार करो ……..
ये चचा सिपाल जादो को खुली धमकी है ।
माना जा रहा है कि ये भतीजे की ओर से बगावत का बिगुल है ।
ऐसे कयास लग रहे हैं कि अगर टिकट वितरण में अखिलेश की न चली तो सपा के कम से कम 200 बागी खड़े होंगे और जहां बागी नहीं भी होंगे वहाँ चाचा भतीजा भितरघात कर एक दुसरे को हरवायेंगे ।
इसमें पेंच ये है कि सपा के गैर मुस्लिम वोटर की पहली स्वाभाविक गैरसपा पसंद भाजपा है न कि बसपा ।
इस भितरघात से सपा votebank का एक बड़ा हिस्सा भाजपा में shift हो सकता है ।

इसके अलावा नोटबंदी के बाद से देश में जो माहौल है और सरकारी एजेंसियां जैसे बेरहमी से ताबड़ तोड़ छापे मार कार्यवाही कर रही हैं उस से जादो कुनबे में खलबली है । मोदिया कब घुस आयेगा घर में क्या पता ??????
ऐसे में सपा समर्थक एक बहुत बड़ी पूंजीपति लॉबी neutral हो गयी है । कयास तो यहाँ तक हैं कि अमित शाह का प्रेमपत्र पहुँच चुका है ।
भोजपुरी में कहावत है ……
आन्ही आवै बइठ गंवावे …….
मने जब जोर की आंधी आये तो कुछ सर सामान बटोरने के कोशिश नहीं करनी चाहिए ……. जो उड़ता है उड़ जाने दो ……. कहीं किसी कोने में दुबक के पहले जान बचाओ ….. जान बची रही तो फिर देखेंगे खोजेंगे ……
क्या गया क्या बचा ……
UP में आंधी चल रही है । सब उड़ा ले जायेगी ।