तुम्हें आज तक कितने लोगों ने Touch किया ???????

2011 में डायरेक्टर मिलन लूथरिया ने एक फिल्म बनायी थी ……The Dirty Picture ……. दक्षिण भारतीय फिल्म उद्योग की बहु चर्चित अभिनेत्री Silk Smitha के जीवन पे आधारित थी फिल्म । सिल्क स्मिता दक्षिण की C ग्रेड फिल्मों की अभिनेत्री थी ।
फिल्म का विषय और कथानक bold था पर मिलन लूथरिया ने इस संवेदनशील विषय पे एक बेहतरीन फिल्म बनायी ।
वो जिसे Cinematic Experience कहा जाता है उसके हिसाब से Dirty Picture एक बेहतरीन फिल्म थी ।
Stall में बैठ के soft porn फिल्म देखने वाले दर्शकों की हिरोइन पे बनी फिल्म के कथानक और विषय वस्तु पे शुद्धता वादी लोग नाक भौं सिकोड़ सकते हैं पर नारी देह पे आधारित फिल्म का फिल्मांकन जिस खूबसूरती से मिलन लूथरिया ने किया वो काबिले तारीफ था ।
पूरी फिल्म को उन्होंने कभी भी vulgar नहीं होने दिया ।
फिल्म में विद्या बालन , नसीरुद्दीन शाह और इमरान हाशमी , राजेश शर्मा ने बेहतरीन काम किया ।
मैं तो इसे नसीरुद्दीन शाह की जीवन की सबसे बेहतरीन फिल्म मानता हूँ ।

इसके अलावा फिल्म के लेखन और dialogues भी कमाल के थे ।
गंभीर फिल्मों के शौकीनों के लिए ये एक बेहतरीन Cinematic Experience था ।

फिल्म का एक दृश्य है जिसमे इमरान हाशमी विद्या बालन से पूछता है ।
तुम्हें आज तक कितने लोगों ने Touch किया ???????
विद्या जवाब देती है ……. touch तो बहुतों ने किया पर छुआ आज तक किसी ने नहीं …….

***

मोदी जी ने एक दिन राज्य सभा में सरदार जी को घेर लिया ।
पूछा ……. Dr साब ……. इत्ते दिन कांग्रेस की सेवा में रहे ……. 35 साल ……… कितने लोगों ने पीछे touch किया ?

Dr साब बोले …… न आज तक किसी ने touch किया न छुआ …….
हमेशा Condom इस्तेमाल किया …….. इसीलिए मैं आज तक अनछुई सती साबित्री हूँ …….
न कोई दाग …… न धब्बा …….
Mr Clean ………

लड़ाई बसपा भाजपा में हैं ।

मुझे याद है ।
2012 के चुनावी दिन थे ।
कांग्रेस का tempo high था ।
2009 में UPA2 ने अप्रत्याशित सफलता हासिल की थी और कांग्रेस तो UP में लोकसभा की 22 सीट जीत के सातवें आसमान पे थी ।
राहुल गांधी UP की जीत में दूल्हा बने घूम रहे थे ।
उधर भाजपा का all time Low चल रहा था ।
UP में बमुश्किल 10 सीट …….
रालोद जैसी पार्टियां जिनकी गिनती न तीन में है न तेरह में , वो भी 5 सीट जीत के भाजपा से बराबरी का दम भर रही थीं …….
ऐसे माहौल में 2012 का विधान सभा चुनाव आया UP में ।
राहुल बाबा के नेतृत्व में कांग्रेस बम बम थी ।
माहौल ऐसे बनाया जा रहा था मानो अबकी बार कांग्रेस सरकार ।
यूँ लगता था मानो कांग्रेस का वनवास इस बार समाप्त हो ही जाएगा ।
कांग्रेसी नेताओं में इस बात को ले के खींच तान शुरू हो गयी कि कौन बनेगा मुख्य मंत्री ???????

पर जब नतीजा आया तो फुसस्सससस्स ……..
कुल जमा 28सीट पे सिमट के रह गयी कांग्रेस ।
भाजपा की भी दुर्दशा हुई । कुल जमा 47 सीट आयी ।
कहने का मतलब ये की उन दिनों भाजपा की औकात रालोद और कांग्रेस जैसी थी UP में ।
2012 में बसपा को हरा के सपा चुनाव जीती । अखिलेश भैया की साइकिल आसमान में उड़ी जा रही थी । अहीरों ने पूरे UP में बमचक मचा रखा था ।
ऐसे में मोदी जी ने गुजरात में लगातार तीसरी बार चुनाव जीता और कूद पड़े राष्ट्रीय राजनीति में ……. और प्रधान मंत्री पद के लिए अपनी दावेदारी पेश कर दी ……
उस समय , जबकि UP में भाजपा अभी ताजा ताजा अपनी मिट्टी पलीद करा के बैठी थी , राजनीति के पंडितों ने सवाल उछाला …….. हम्ममम्म ……. प्रधान मंत्री बनोगे ???????
कहाँ से लियाओगे सीट ?
जानते हो …….. 272 सीट लगता है परधान मंतरी बनने को …….
कहाँ से लियाओगे हेतना सीट ?

मोदी जी ने जवाब दिया ……. अब लड़ेंगे तो सीट भी आ ही जाएगा ………
अच्छा ??????? आ जाएगा ? अबे ठेले पे बिकता है का ? जो आ जाएगा ???????
अच्छा ई बताओ …….. ऊपी में केतना सीट जीत के PM बनोगे ।
तब IBTL में एक लेख छपा ।
IBTL कुछ right wing टाइप पोर्टल था । उसने कहा कि भाजपा UP में 20 सीट जीतेगी ।
20 सीट सुन के सेक्युलर leftist मीडिया और जनता ने खूब मज़ाक बनाया ……. ये मुह और मसूर की दाल ? Huhhhhh ……. 20 सीट …… सीट मानो पेड़ पे लगती है ……. गए और तोड़ लाये ।
खैर …….. मोदी जी भाजपा के अंदर खुद को PM प्रत्याशी घोषित करने के लिए संघर्षरत थे । उधर देश में आपकी लोकप्रियता का ग्राफ निरंतर बढ़ रहा था ।
2012 में UP में भाजपा की ये समस्या थी कि इनके पास UP में सिर्फ और सिर्फ बनिया / सुनार वोट बचा था । यहां गक कि मजबूरी में ठाकुर तक छोड़ गए थे ।
2013 में जब मोदी जी PM प्रत्याशी के तौर पे उभरने लगे तो भाजपा में सबसे पहले जो वर्ग लौटा वो ठाकुर थे । जिनके साथ साथ ही ब्राह्मण और भूमिहार भी आ चढ़े । अब समस्त सवर्ण और बनिया व्यापारी भाजपा के साथ था ।
ऐसे में IBTL में फिर एक लेख छापा ……… UP में भाजपा 35 सीट ।
Leftist सेक्युलर मीडिया ने फिर खारिज कर दिया ।
Mid 2013 ……. मोदी जी को भाजपा ने तमाम खींच तान उठा पटक के बाद PM प्रत्याशी घोषित कर सिया । IBTL ने लिखा …….. UP में भाजपा 45 सीट …….. लोगों ने कहा पागल हैं …….
मीडिया अब भी भाजपा को 160 सीट दे रहा था देस भर में ……. और सवाल पूछता था कि समर्थन कहाँ से जुटाओगे ……. मोदी तो अछूत है …… आडवाणी होते तो शायद जुटा भी लेते ।
UP में भाजपा की समस्या ये थी कि इसकी पहचान शहरी और सवर्ण और बनियों की पार्टी के रूप में थी । OBC और दलित वोट नदारद थे ।
ऐसे में अमित शाह जी ने UP की कमान सम्हाली और मृत पड़े संगठन को ज़िंदा करना शुरू किया । भयंकर गुट बाजी थी । बीसियों नेता थे और सब के सब PM और CM material थे । नेता भारी भरकम और औकात इतनी भी नहीं कि अपनी सीट निकाल लें । ऐसे मृतप्राय संगठन में अमित शाह और मोदी जी ने जान फूंकी ।
बड़े नेताओं को धीरे धीरे दरकिनार किया ……. नहा नेतृत्व खड़ा किया ……. माहौल बनने लगा । गरमाने लगा । पर अब IBTL की हिम्मत न हुई कि वो 45 से ऊपर जाए ।
ऐसे में हमारे जैसों ने SM पे लिखना शुरू किया ……… 55
सो मेरे एक मित्र हैं । वो हैदराबाद के एक हिंदी अखबार के उप संपादक हैं ।
बोले …… का पहलवान ? भांग खाये हो का ? 55 ??????
मने राम लहर से भी आगे ……..
मैंने उन्हें जवाब दिया ……. राम लहर क्या थी ??????
यहां सुनामी बह रही है ।
चुनाव सिर पे था । टिकट वितरण की उठापटक के बाद जब तस्वीर साफ हुई तो मैंने एक दिन लिखा ……… क्या इस बार हम गाज़ीपुर भी जीत रहे हैं क्या ???????????
क्योंकि लक्षण मिलने लगे थे । और गाज़ीपुर की सीट पूरी UP में भाजपा के लिए सबसे कठिन सीट है ……. जातीय समीकरण ही ऐसे हैं ।
चुनाव में बमुश्किल 10 दिन थे
अंतिम चरण चल रहा था ।मैंने अपने जिले की वोटिंग से कोई 4 दिन पहले लिखा कि हम गाज़ीपुर जीत रहे हैं …….. जल प्रलय होगी ………
Result आया तो सब बह गया । सुनामी सब बहा ले गयी ।
73 सीट …….. सीटें वाकई पेड़ पे लगती हैं ।
पर उस पेड़ को सीचना सहेजना पड़ता है ।

बहरहाल ……. चुनावी मंच फिर सजा है UP में ।
वही अमित शाह हैं और वही मोदी जी हैं ।
और leftist secular मीडिया की वही जड़ता है ।
आज भी राजनीति के पंडितों को भरोसा नहीं ।
या यूँ कहिये कि भरोसा करना नहीं चाहते ।
हालांकि विधान सभा का चुनाव लोक सभा से अलग होता है ……. मुद्दे अलग होते हैं ……. क्षेत्र छोटे होते हैं , स्थानीय factors होते हैं …….. हार जीत का मार्जिन बहुत कम होता है ……. बहुकोणीय मुकाबला हो तो आकलन मुश्किल हो जाता है ……… पर इसके बावजूद ……. चुनाव के basics नहीं बदलते ।
अब जबकि UP में पहले चरण की voting में सिर्फ दो दिन बचे हैं ………..
सवाल है कितनी सीटें ????????
220 में दाग नहीं है ।
जस जस चुनाव होता जाएगा , आकलन ये होगा कि 220 से कितना ऊपर ।
मने 240 ????????
260 ?????????
या 280 ???????????
या फिर 300 ???????

पर इतना तय है कि पिछले 3 दिन में सपा पिछड़ी है और बसपा ने improve किया है ।
आज भाजपा की लड़ाई बसपा से है ।
कांग्रेस से गठबंधन कर सपा पीछे छूट गयी ।
कांग्रेस इतनी भारी है कि वो सपा को ले डूबेगी ।
लड़ाई बसपा भाजपा में हैं ।
परिदृश्य रोज़ बदल रहा है ।
इंतज़ार कीजिये ।

अमेठी के राजा संजय सिंह के छिनरपन का किस्सा ।

अमेठी सीट पे घमासान मचा है ।
अमेठी एक छोटा मोटा राजघराना रहा है UP का जहां संजय सिंह का खानदान राज करता रहा है ।
इसके अलावा गांधी परिवार वहाँ से सांसद है । पिछले 40 साल से ।
इसके बावजूद UP के सर्वाधिक पिछड़े इलाकों में गिनती होती है अमेठी की ।
सोच के देखिये । देश की ruling party के प्रथम परिवार जो हमेशा PM या उसके समकक्ष रहा हो उनकी constituency का ये हाल ? गरीबी भुखमरी पिछड़ेपन से बेहाल ।
फिलहाल वहाँ से समाजवादी पाल्टी के गायत्री प्रजापति ताल ठोक रहे हैं ।
वही प्रजापति जिनको टेढ़ी नाक वाले अकललेस जादो ने भ्रष्टाचार के आरोप में मंत्रिमंडल से निकाला फिर नामाजवादी नौटंकी में थूक के चाट लिया ।

चोर जार लंपट छिनरे संजय सिंह का क्षेत्र है अमेठी । इनके छिनरपन के किस्से मशहूर हैं ।
लीजिये सुनिये अमेठी के राजा संजय सिंह के छिनरपन का किस्सा ।
बात 1988 की है ।
उन दिनों की जब मैं NIS पटियाला में पढ़ रहा था ।
तभी एक दिन खबर आयी कि विश्व विख्यात Badminton खिलाड़ी सय्यद मोदी की लखनऊ में दिन दहाड़े KD Singh Babu स्टेडियम के सामने गोली मार के ह्त्या कर दी गयी । ह्त्या सुबह 8 बजे हुई जब मोदी सुबह की practice कर badminton hall से बाहर निकल रहे थे ।
हमारे साथ लखनऊ के 3 बैडमिंटन खिलाड़ी भी डिप्लोमा कर रहे थे ।
कौशल खरे और अंसारी ……..
वो तीनों उसी लखनऊ के उसी बैडमिंटन हॉल के खिलाड़ी थे और सय्यद मोदी के साथ ही practice करते थे । उनका मोदी के साथ दिन रात का संग साथ उठना बैठना खाना पीना था ।
Modi की हत्या की खबर सुन इन तीनों के मुह से एक साथ निकला …….. मरवा दिहलस संजय सिंघवा । फिर उन तीनों से उस हत्याकांड का किस्सा सुना ।
सय्यद मोदी की शादी मुम्बई की एक मशहूर बैडमिंटन खिलाड़ी अमिता कुलकर्णी से हुई थी ।
NIS पटियाला उन दिनों भारतीय खेल का केंद्र था और सारे National coaching कैम्प्स वहीं लगा करते थे । उसी पटियाला में मोदी और अमिता कुलकर्णी की जानपहचान , दोस्ती , और शादी हुई थी ।
अमिता कुलकर्णी मुम्बई की पली बढ़ी , फर्राटे से अंग्रेजी बोलने वाली और बड़ी नकचढ़ी किसिम की लड़की थी ( मुझे वो दिन याद है जब वो पटियाला में बिना ब्रा के T Shirt पहन के घूमती थी )
। इधर सय्यद मोदी गोरखपुर का भोजपुरी speaking भैया , सीधा सादा आदमी था ।
रेलवे में welfare inspector लग गया और लखनऊ रहने लगा ।
वहीं संजय सिंह भी आता था बैडमिंटन खेलने । जल्दी ही उसकी दोस्ती मोदी परिवार से हो गयी ।
संजय सिंह और अमिता कुलकर्णी मोदी की दोस्ती ( चुदक्कड़ी ) के किस्से पूरे लखनऊ में मशहूर हो गए । अमिता मोदी कुलकर्णी pregnant हो गयी । सैय्यद मोदी जानते थे कि बच्चा मेरा नहीं बल्कि संजय सिंह का है ।
Delivery से 4 महीना पहले अमिता अपने मायके मुम्बई चली गयी और वहाँ उसे एक लड़की हुई ।
लड़की को मुंबई अपनी माँ के पास छोड़ अमिता वापस लखनऊ आ गयी ।
इसके दो महीने बाद मोदी की हत्या हो गयी ।
मचा बमचक । बड़ा high profile murder था ।
सीधे सीधे संजय सिंह और अमिता मोदी कुलकर्णी पे आरोप था । दोनों की गिरफ्तारी भी हुई । जेल भी गए । पर जल्दी ही जमानत भी हो गयी ।
उन दिनों संजय सिंह केंद्र में VP Singh सरकार में राज्य मंत्री थे ……. शायद telecom में ।
CBI जांच हुई पर कुछ न निकला । सब लीप पोत दिया गया ।
मुझे याद है उन दिनों एक बड़ी मशहूर पत्रिका निकलती थी ” माया ” .उसमे संजय सिंह का interview छापा था ।
संजय सिंह बोला अमिता तो मेरी बहन जैसी है ।
उसी केस में कांग्रेस नेता अखिलेश सिंह , जी हां यही अखिलेश सिंह जो आजकल TV पे कांग्रेस के प्रवक्ता बने फिरते हैं , ये भी सह अभियुक्त थे । इनपे ह्त्या के लिए shooter और सारा logistic support जुटने , रुपया पैसा , हथियार , गाडी जुटाने का आरोप था ।
खैर कुछ न हुआ ……. सब छूट छटक गए ।
कुछ समय बाद संजय सिंघवा बहिनचोद ने अपनी बहिन से बियाह कर लिया और उनकी बहिन आजकल अमेठी की रानी अमिता सिंह कहलाती हैं ।
संजय सिंह पहले से शादी शुदा था ।
उसकी पत्नी का नाम गरिमा सिंह था जो राजा मांडा VP Singh की सगी भतीजी थीं ।
संजय सिंह ने fraud करके उनसे तलाक़ ले लिया जिसे गरिमा सिंह ने high court से रद्द करा दिया ।
इनका तलाक़ का मुक़द्दमा आज तक court में लंबित है और Amita मोदी कुलकर्णी सिंह की कानूनी हैसियत आज भी एक रखैल live in partner से अधिक कुछ नहीं ।
वो लड़की जो मुम्बई में पैदा हुई , पली बढ़ी उसका नाम आकांक्षा सिंह है ।
जबकि हकीकत ये है कि जब वो पैदा हुई तो उसकी माँ सय्यद मोदी की ब्याहता थी ।

संजय सिंह की पत्नी , वही गरिमा सिंह आज अमेठी से भाजपा प्रत्याशी हैं ।
सपा ने अमेठी की सीट congress को नहीं दी है और गायत्री प्रजापति वहाँ से लड़ रहे हैं ।
इधर संजय सिंह की रखैल भी कांग्रेस से ताल ठोक रही है ।

अमेठी पिछले 50 साल से नकली गांधी परिवार की पालकी ढोती विकास की बाट जोह रही है ।

UP चुनाव

इस्माइल मेरठी (Ismail Meeruti) साहब का एक शेर है ……..

अर्ज किया है ……..

उल्फत का जब मजा है कि वो भी हों बेकरार,
दोनों तरफ हो आग बराबर लगी हुई।

और इसी शेर की तर्ज पे ……..

गठबंधन का तब मज़ा है कि दोनों ही हों बेजार ……..
औ दोनों तरफ हो गाँड …………… बराबर फटी हुई

UP में सपा और congress का गठबंधन होगा ज़रूर ।
क्योंकि दोनों मने अखिलेश औ राहुल ……. मने सपा औ कांग्रेस …….
भाजपा औ मोदी के मारे , दोनों की है गाँड बराबर फटी हुई ।

राहुल बाबा जानते हैं कि अगर गठबंधन न हुआ तो कांग्रेस की 5 सीट नहीं आएगी इस बार UP में ।
और कितना ही विकास का तंबू तान लें , सपा के लिए बिना गठबंधन 50 का आंकड़ा छूना मुश्किल है ।

Congress की जमीनी स्थिति ये है की कांग्रेसी वोटर जैसी कोई चीज़ UP में अब नहीं बची है । कुछ एक सीटों पे कुछ ऐसे लोग है जिनका अपना व्यक्तिगत भोट है …….. वो एक तरह से निर्दल लोग हैं …….. congress छोड़ अगर निर्दल भी लड़ जाएँ तो जीत जाएंगे । ऐसे 5 – 7 लोग कांग्रेस के टिकट पे लड़ के जीत जाते है इसलिए congress का खाता खुल जाता है UP में । ऐसी सीटों पे कुछ भोट उस प्रत्याशी की जात का और कुछ मुस्लिम भोट मिल के वो सीट जीती जाती है ।

मोदी जी ने पिछले 5 साल में सपा से उसका गैर यादव OBC वोट छीन लिया है ।
इसी तरह मायावती के दलित भोट बैंक में से मोदी जी ने गैर चमार – जाटव भोट में बड़ी सेंध लगायी है ।

सपा congress गठबंधन का सबसे बड़ा नुकसान BSP को होगा जहां उसका मुस्लिम भोट खिसक के सपा- cong के साथ आ जाएगा ।
मुस्लिम भोट बेशक एकमुश्त सपा को पड़ेगा जिसकी प्रतिक्रिया में हिन्दू भोट का counter polarization होगा ।

हालफिलहाल स्थिति ये है कि सपा – congress गठबंधन पूरी जोड़ जुगत के बाद भी 26 – 27 % तक पहुँच पायेगा जबकि इस चुनाव में भाजपा शुरुआत ही 34 % भोट के साथ करेगी जो campaign के साथ बढ़ेगा ।

यदि भाजपा ने 30% भोट लिया तो 220 सीट
32 % लिया तो 240 – 250
34% पे 260 से 280
36 % पे 300 +

आज की तारीख में सबसे खराब स्थिति BSP की है ।
यही हालत रही तो हाथी फिर अंडा दे सकता है ।
सिर्फ चमार – जाटव के बल पे तो 10 सीट आनी मुश्किल है ।

फिलहाल इंतज़ार कीजिये ……. टिकट वितरण और नाम वापसी होने दीजिए ।
तभी picture clear होगी ।

लगता है कि कांग्रेस 44 से 4 पे आएगी ……. राहुल गांधी के नेतृत्व में ।

 

आपको याद होगा , उड़ी हमले के बाद मोदी जी की लोकप्रियता का ग्राफ अचानक बहुत तेजी से नीचे गिरा । पूरे देश में उडी हमले को ले के आक्रोश था । मोदी समर्थक ( भक्त )निराश थे और अनाप शनाप बक रहे थे । मोदी विरोधी तो बाकायदा उड़ी हमले को celebrate कर रहे थे । उन्हें देश से कोई मतलब नहीं । उड़ी हमले के रूप में उन्हें वो छड़ी मिल गयी थी जिससे वो मोदी को पीट सकते थे । उनका तर्क कुछ यूँ था ……. देख लो , फेंकू मोदी भी हिजड़ा निकला ……. हमारी तरह ।
लोग चुनाव सभाओं में मोदी के वक्तव्य शेयर करने लगे । ख़ास तौर पे वो clipping जो मोदी जी ने रजत शर्मा के कार्यक्रम आज की अदालत में बोला था …… घर में घुस के मारूंगा . लोग वही क्लिपिंग दिखा के कटाक्ष कर रहे थे ।
और फिर जब मोदी जी ने POK में घुस के surgical strike कर दी तो सब हक्के बक्के रह गए ।
अवाक् ……. भक्त ख़ुशी से नाचने लगे और विरोधियों के मुह खुले रह गए । उनके मुह से बस यही निकला …….. नहीईईईईईईई…….. ऐसा नहीं हो सकता …….. कह दो कि ये झूठ है …… झूठ है …… झूठ है ……. कोई सर्जिकल स्ट्राइक नहीं हुई ……. प्रूफ दिखाओ ……. army झूठ बोलती है …… मोदी झूठ बोलता है ……. हम ऐसे कैसे POK में घुस के मार सकते हैं ??????
उड़ी हमला मोदी के लिए एक credibility issue बन गया था । मोदी की साख दाव पे लगी थी ।
POK में हमला कर मोदी ने वो साख बचा ली ……. आम भारतीय के मन में मोदी जी के प्रति विश्वास दृढ हुआ ……. मोदी जुबान का पक्का है ……. जो कहता है वो करता है ।
मोदी की credibility नोटबंदी के बाद और बढ़ी है । अब पूरा देश और मोदी के कट्टर विरोधी भी ये मानने लगे हैं कि मोदी एक ज़बरदस्त नेता है ……. साहसिक निर्णय ले सकता है ……. आज मोदी की साख एक ऐसे नेता की है जो राष्ट्रभक्त है …… राष्ट्र को समर्पित है ……

मोदी की यही credibility विपक्षी नेताओं के लिए मुसीबत बनी हुई है । इसके विपरीत राहुल गाँधी की credibility देश में zero है । वो सिर्फ एक चुटकुला बन के रह गए हैं । समस्या ये है कि वो उल जुलूल बयानबाजी और झूठे तथ्यहीन आधारहीन आरोप लगा के अपना और ज़्यादा मज़ाक बनवा रहे हैं ।
राहुल को चाहिए कि वो अपनी विश्वसनीयता बहाल करें ……… मोदी पे झूठे आरोप लगा के वो अपनी साख को मिट्टी में मिला रहे हैं ।
जिस प्रकार मोदी दिनों दिन ऊपर उठ रहे हैं और राहुल गांधी नीचे गिर रहे हैं , लगता है कि कांग्रेस 44 से 4 पे आएगी ……. राहुल गांधी के नेतृत्व में ।

सरकार

 

बात 1998 की है। लोकसभा चुनावों में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी और राजग सबसे बड़ा गठबंधन बन कर उभरा था। अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री नियुक्त किये गये थे। संसद में विश्वास प्रस्ताव पर बहस चल रही थी। कांग्रेस और सीपीएम ने मिल कर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। दोनों पार्टियों के नेता साथ-साथ बैठे थे और भाजपा-एनडीए के ऊपर तीखे हमले कर रहे थे। जब कांग्रेस का कोई नेता बोलता तो सीपीएम के नेता मेज थपथपा कर उसका समर्थन करते और जब सीपीएम का कोई नेता बोलता तो कांग्रेस के नेता मेज थपथपा कर उसका समर्थन करते। एनडीए का कोई वक्ता जब कांग्रेस को निशाने पर ले के बाण छोड़ता, तो उस बाण से कांग्रेस को बचाने के लिए सीपीएम के सांसद ढाल ले कर सामने आ जाते। अटल बिहारी की सांप्रदायिक सरकार को रोकने के लिए सेक्युलर ताकतें एकजुट हो गईं थीं।

सरकार की तरफ से धुरंधर नेता जॉर्ज फ़र्नान्डीस ने मोर्चा संभाला। उन्होंने कहा, “अध्यक्ष महोदय! मैं आपको बताना चाहता हूँ कि कांग्रेस पार्टी के बारे में इस देश के एक बहुत ही महत्वपूर्ण संगठन के क्या विचार हैं।” और जॉर्ज ने एक पतली सी पुस्तिका से पढना शुरू किया:
“Congress party is the fountainhead of corruption…(कांग्रेस सांसदों द्वारा शोर)…The British left and the Congress party replaced them. Over the past 50 years, Congress has established ever new records in corruption. (कांग्रेस सांसदों द्वारा पुनः शोर) Congress ministers have often been found embroiled in several scams, including Mundra scam, Churhat Lottery scam, Bofors scam, Sukhram scam, Harshad Mehta scam, JMM Bribery scam and Hawala, that took place during its regime. Congress has corrupted and misused every institution of the Indian democracy.”

कांग्रेस और कम्युनिस्ट सांसद उत्तेजित हो जाते हैं और लोकसभा अध्यक्ष से मांग करते हैं, “Speaker sir! Please ask the honourable member to name the source We can’t allow him to read from any unnamed document. Please restrain him.”

जॉर्ज फ़र्नान्डिस कहते हैं, “Please don’t get impatient. I’ll definitely name the source. But first let me complete what it says. It says, “The Congress party’s record on Secularism too has been chequered. At various times in history, Congressi goondas took active part in riots and killed people. 3000 Sikhs were butchered by them on streets of Delhi and prime minister Rajiv Gandhi watched it silently.”

कांग्रेस और कम्युनिस्ट सांसदों द्वारा फिर से शोर।

जॉर्ज कहते हैं, “Just give me two minutes…and then I’ll reveal the source”

जॉर्ज पुस्तिका से पढ़ना जारी रखते हैं “Speaker sir, it says, “No country in history has ever progressed with bad governance and excessive corruption as partners. None! The Congress suffers from this twin ailment since decades. Its survival is detrimental to the progress of India. Therefore, in the interest this nation, it’s important that Congress party is wiped out from this land for ever.”

कांग्रेस और कम्युनिस्ट सांसदों द्वारा ज़बरदस्त शोर। “Speaker sir! It cannot go on like this. We will not allow him to speak any further if he doesn’t give the source he is quoting from.”
“Ok, Ok” जॉर्ज कहते हैं, “There is more to read. But since our friends from Congress and CPM are so desperate to know the source, let me tell you what I am reading from…
…I’m reading from the Manifesto of CPI(M) issued just before these Lok Sabha elections.”

सदन में सन्नाटा… कांग्रेस और सीपीएम के सांसद बगलें झाँकने लगते हैं..
जॉर्ज गरजे, “क्यों, साँप सूंघ गया? बोलती बंद हो गई? बड़ा बोल रहे थे, we want to know the source, we want to know the source. सोर्स का नाम सुनते ही लकवा मार गया?…खुद पर शर्म आ रही है? आनी भी चाहिए…My friends from the Left! Either you don’t read your own manifesto or you don’t mean a word of it. In either case, you should be ashamed of yourselves. In the name of secularism, you have joined hands with Congress that has broken all records in corruption. I urge you to introspect to determine your future course of action. And if you do not mend your ways, your party will become history, sooner rather than later.”

सत्य प्रकाश सिंह जी की कलम से….
Alok Bhardwaj ji की wall से