चचा अपदस्थ , बाऊ लिटायर और अमर अंकिल बर्खास्त …….

पूर्वांचल में अपने होशो हवास में , भरसक , कोई बाऊ साहब लोगों मने ठाकुरों को कोई दूकान मकान भाड़े पे नहीं देता । मने दूकान खाली पड़ी रहे ऊ मंजूर बाऊ साहब को भाड़ा पे नहीं देंगे ।
और ई रेपुटेसन कोई रातों रात नहीं बन गयी है ……. बाऊ साहब लोग की सैकड़ों साल की चोरकटई से ई रेपुटेसन बना है ……. मने बाऊ साहब को मकान दूकान भाड़े पे दिया त ऊ गयी …..
अब करा लिहा खाली ……. जा लड़ा कोट कचहरी ……. जादो जी लोग का रेपुटेसन कुछ भिन्न है ।
मने जादो जी लोग भड़इता मने किरायेदार बन के मकान दूकान पे कब्जा नहीं करेगा ।
ऊ सब Virgin land खोजता है …… मने खाली पिलाट …….
अगर आपका शहर में कहीं कोई खाली पिलाट पड़ा है ……. तो कोई यदुवंशी उसको कई साल तजबीजता रहेगा …… एकदम बकुल ध्यानं …… मने तब तक इन्तजार करेगा जब तक कि कोई यादवी सरकार सत्ता में न आ जाए ……. और उसको जैसे ही कोई अनुकूल अवसर मिला …… ऊ आपके प्लाट पे 4 ठो गोरु गैया लिया के रातों रात तबेला खोल देगा ……. यादव डेरी फार्म …… इहाँ सांड भैंसा का सुद्ध दूध मिलता है ……. अब आप लाख सिर पटक के मर जाये …… थाना दारोगा कप्तान …… सब कीजिये ……. जादो जी कब्जा नहीं छोड़ेंगे । तब तक जब तक कि कोई नयी सरकार न आ जाए जो आपकी बात सुने और जादो जी को बांस कर दे …….. आज ऊपी में नामाजवादी सरकार के ऊपर सबसे बड़ा कलंक यही है ……. सरकारी और पिराईभेट …… सभी जमीनों पे एकदम निर्विकार भाव से अवैध कब्जा …….. मने किसी की भी संपत्ति में जबरदस्ती घुस जाना और लाठी के बल पे कब्जिया लेना ।

अब आज का लखनऊ का ही किस्सा देख लीजिए ।
सपा कार्यालय पे जबर्दस्ती कब्जा ……. चचा अपदस्थ , बाऊ लिटायर और अमर अंकिल बर्खास्त …….

जादो जी लोग चाहे जौना पोजीसन में आ जाएँ …… अवैध कब्जा का नैसर्गिक गुण सामने आ ही जाता है ।

वर्तमान के इतिहास बनने तक प्रतीक्षा करें ।

14 December 1903 …….. पहली उड़ान की कोशिश की पर असफल रहे ।
जो तथाकथित मशीन बनायी थी जिसे कहते थे कि हवा में उड़ जायेगी ….. वो टूट फुट गयी ।
17 Dec 1903 ……. उस टूटी फूटी मशीन को ठीक ठाक कर फिर से कोशिश की ।।
पहली उड़ान सिर्फ 120 फीट की थी । जमीन से ऊंचाई सिर्फ 10 फुट थी और गति सिर्फ 30 मील …….
राईट बंधुओं ने अपने पिता को टेलीग्राम भेज के उड़ान की सफलता की सूचना दी और स्थानीय प्रेस को भी सूचित करने को कहा ।
स्थानीय अखबार Dayton Journal ने इसे कोरी गप्प और सफ़ेद झूठ कह के खारिज कर दिया ।
अगले 3 साल राईट बंधुओं को लोगों को ये समझाने में बीत गए कि वाकई उड़ान सफल रही और दुनिया को बदल देने वाला आविष्कार हो चुका है ।
पर कोई मानने को तैयार न था । समूचे यूरोप के अखबार राईट बंधुओं को Bluffers कह के पुकारते थे । राईट बंधुओं ने अमेरिका और यूरोप की सरकारों से संपर्क किया पर किसी ने कोई दिलचस्पी न दिखाई । US Army ने राईट बंधुओं के विमान को कोई महत्त्व न दिया ।
फिर राईट बंधुओं ने किसी तरह पूँजी जुटा के France में एक Air Show आयोजित किया जिसे हज़ारों लोगों ने देखा । तब जा के यूरोपीय अखबारों ने राईट बंधुओं से सार्वजनिक क्षमा याचना की ।
July 1909 में US Army ने राईट बंधुओं से एक करार किया जिसमे वो ऐसा विमान बनाते जिसमे पायलट के साथ एक सहयात्री , 1 घंटे की उड़ान और न्यूनतम गति 40 MPH होनी ज़रूरी थी ।

1913 तक राईट बंधुओं ने US Army के लिए कुल 6 Model C विमान बनाए और वो सारे crash कर गए । कुल 13 आदमी ” शहीद ” हुए ।

कुल मिला के उन दिनों राईट बंधुओं को झूठा , फरेबी , मक्कार , धोखेबाज , Fraud , फेंकू इत्यादि नामों से बुलाया जाता था और हवा में उड़ने वाली मशीन को अफवाह , झूठ का पुलिंदा , और Failure कहा जाता था ।

शेष इतिहास है ।

यूँ सुनते हैं कि नोटबंदी भी फेल हो गयी है और मोदी भी फेंकू , झूठा , मक्कार , धोखेबाज , भ्रष्ट है और नोटबंदी 8 लाख करोड़ रु का mega Scam है ।

वर्तमान के इतिहास बनने तक प्रतीक्षा करें ।

किसी एक को मरना होगा । कौन मरेगा ? मोलायम या अकलेस ?

इतिहास खुद को दोहरा रहा है क्या ?
बात 1966 की है ।
लाल बहादुर शास्त्री के बाद इंदिरा गाँधी PM बनी थी ।
उनके नेतृत्व में 67 में चुनाव हुए तो कांग्रेस ने अब तक का सबसे खराब प्रदर्शन किया । सिर्फ 283 सीट आई । बहुमत से बमुश्किल 20 सीट ज़्यादा ।
जब शास्त्री जी मरे थे तो इंदिरा उनके मंत्रिमंडल में सूचना एवं प्रसारण मंत्री थी । उन्हें गूंगी गुड़िया कहा जाता था । वो सिर्फ एक खूबसूरत चेहरा भर थी जिसके नाम के आगे गांधी नेहरु लगा था ।
शास्त्री के बाद कांग्रेस के तत्कालीन अध्यक्ष कामराज ने तो अपनी तरफ से एक कठपुतली
बैठाई थी कुर्सी पे ……. सत्ता की चाभी उनके पास थी । उनके अलावा मोरारजी भाई देसाई , निजलिंगप्पा , नीलम संजीव रेड्डी , हितेंद्र देसाई , सत्येन्द्र नारायण सिन्हा , चन्द्र भानु गुप्त और वीरेन्द्र पाटिल जैसे दिग्गज थे कांग्रेस में ……… पर PM बनते ही इंदिरा गाँधी ने रंग दिखाना शुरू किया और इन वट वृक्षों की छाया से बाहर आ गयी ।
12 Nov 1969 को तत्कालीन अध्यक्ष निजलिंगप्पा ने अपनी PM इंदिरा गाँधी को अनुशासन हीनता के लिए पार्टी से निकाल दिया ……… इंदिरा ने अलग हो के नयी पार्टी बना ली ……. सारे बूढ़े खलीफा एक तरफ , गूंगी गुड़िया अकेली एक तरफ …….. इंदिरा गाँधी की कांग्रेस ( O ) और कामराज वाली Cong ( R ) …….. पार्टी दो फाड़ हो गयी ।
तत्कालीन कांग्रेस working committee के 705 मेंबर्स में से 446 इंदिरा गाँधी के साथ हो गए ।
पुरानी कांग्रेस जिसमे कामराज के साथ सब बूढ़े थे , वो उन दिनों सिंडिकेट कहलाती थी और इंदिरा की कांग्रेस इंडिकेट ……..

1971 में अगले आम चुनाव हुए । इंदिरा गाँधी ने 43.6% भोट के साथ 352 सीट जीत के बम्पर सफलता अर्जित की । सिंडिकेट के बुढवों को जनता ने नकार दिया । उनको सिर्फ 10 % भोट और सिर्फ 16 seats मिली ।
लोकतंत्र में राजा वो जिसके साथ जनता ……. भोटर ।

UP में वही तमाशा चल रहा है ।
पप्पू अखिलेश अपने बूढ़े घाघ बाप और चाचा की छाया से निकल के बाहर आ गया है ।
कल रात शहजादे सलीम ने अकबर के खिलाफ बगावत का बिगुल फूंक दिया ।
कहता है कि 265 सीट पे बागी उम्मीदवार लड़ाऊँगा …….. पार्टी मुख्यालय में निष्कासन का पत्र type कर के रखा है । सिर्फ मुलायम के sign होने बाकी हैं ।
सवाल है कि भोटर किसके साथ जाएगा ।
यादव वोटर confused है । बूढ़े बुजुर्ग मुलायम के साथ हैं तो युवा अखिलेश के साथ । जिलों में पुराने नेता मुलायम के साथ हैं तो नए अखिलेश के साथ ।

71 में जनता के सामने विकल्प सीमित थे । या सिंडिकेट या फिर इंडिकेट । उनके लिए चुनाव आसान था । उन्होंने इंदिरा को चुन लिया । आज UP की जनता के सम्मुख 4 विकल्प हैं ।
मोदी , मायावती , मुलायम या अखिलेश ।
आज की स्थिति में अखिलेश 3rd या 4th position के लिए लड़ रहे हैं ।
Gold और Silver मैडल तो तय है ।
सपा के भोटर ……. यादव : 35 % मोलायम , 35 अखिलेश , बाकी 30 % भाजपा ।
मुसलमाँ बेचारा …….. खरबूजा कटेगा और सबमे बंटेगा ……… पहले 3 जगह बँटना था अब 4 जगह बंटेगा । 40 % बसपा बाकी 60 % में 4 हिस्से ……..

असली लड़ाई 2017 के बाद शुरू होगी जब सपा में सिंडिकेट और इंडीकेट होगा ।
किसी एक को मरना होगा । कौन मरेगा ?
मोलायम या अकलेस ?

UP में नमाजवादी कलह

नमाजवादी कुनबे की कलह सड़क पे आ गयी है ।
परसों अकलेस जादो ने 403 प्रत्याशियों की सूची अपनी तरफ से मोलायम जादो को सौंप दी थी ।
सिपाल जादो ने उस लिस्ट को अपने संडास में रख दिया । save paper ……. tissue paper के काम आयगा ।
कल सिपाल जादो ने अपनी लिस्ट मोलायम को थमा दी । उस लिस्ट में सिपाल ने कायदे से अकलेस का औकातीकरण किया है । जब मोलायम ने लिस्ट जारी की उस समय CM झांसी में थे । पर मोलायम ने उनकी उपस्थिति ज़रूरी नहीं समझी । सूची जारी कर दी । सूची जारी करते हुए ये भी कहा कि पार्टी का कोई CM चेहरा नहीं है । साथ ही ये भी साफ़ कर दिया कि पार्टी अकेले अपने बूते चुनाव लड़ेगी । किसी से कोई गठबंधन नहीं ।
सूची में ऐसे 107 नाम हैं जिनका टिकट अकलेस ने काट दिया था । उन 107 को सिपाल जादो ने टिकट दे दिया है ।
चुनावी राजनीति का पहला नियम ये है कि Anti Incumbency से निपटने के लिए sitting MLA या MP के टिकट काट दिए जाते हैं । पर अकलेस ने इस मौलिक सिद्धांत की अवहेलना करते हुए 216 sitting MLAs को टिकट दिया था । जो 10 MLA सिपाल जादो के बेहद करीबी थे सिर्फ उनका टिकट काटा । इसमें ओम प्रकाश सिंह , नारद राय और शादाब फातिमा प्रमुख है । नारद राय वो हैं जिन ने मंत्री रहते माफिया Don मुख्तार अंसारी की पार्टी में एंट्री कराई । शादाब फातिमा के लिए कहा जाता है कि वो अकलेस जादो की नयी चाची हैं …….. जाहिर सी बात है कि सिपाल की लिस्ट में चाची का जलवा कायम है ।
एक बात जो गौर करने लायक है वो ये कि महाभ्रष्ट खनन मंत्री गायत्री प्राजापति दोनों की लिस्ट में कायम हैं ।

मोटे तौर पे अकलेस जादो के 100 टिकट काट दिए गए और 107 ऐसे लोगों को टिकट दिया गया जिनका टिकट अकलेस ने काटा था ।

अखिलेश sitting MLAs पे दाव खेल रहे है । इनमे से 200 नाम ऐसे हैं जो आज तो अखिलेश के साथ दीखते हैं पर कल क्या करेंगे अल्लाह जाने ।

इस समय CM house में MLAs की बैठक चल रही है ।
देखिये क्या निकलता है ।

रूरा में किसी ने शांति पाठ तो नहीं किया ??????

पाकिस्तान के एक विद्वान् है । जनाब हसन निसार साहब ।
Youtube पे उनके विडियो बहुत लोकप्रिय हैं ।
सच बोलते हैं । मुसलमानों को आइना दिखाने के लिए कुख्यात हैं । पाकिस्तान के TV channels की debates में बड़ा बेबाक निर्भीक बोलते हैं ।
उनका एक सवाल है ……. पिछले 1400 साल में इस्लाम का contribution क्या है दुनिया को ? Humanity को ?
सिवाय दहशतगर्दी के तुमने दिया क्या है दुनिया को ?
आज तक एक सूई भी ईजाद की ? science Technology में तुम्हारा कोई योगदान पिछले 1400 साल में ? arts और Culture में ?
अलबत्ता terrorism में ज़रूर कुछ R&D करते नज़र आते हैं मुसलमाँ ।
सुन्नी दहशतगर्द इस्लाम के बाकी 71 फिरकों को और शेष काफिरों को मारने के नित नए तरीके इजाद करने की research ज़रूर कर रहे हैं ।
ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को मारा जा सके ऐसे हथियार और तरीके develop करने की कोशिश है ।
जहां भी हो , जैसे भी हो , ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को मारो …… बेक़सूर मासूम लोगों को मारो ……
जो कुछ भी है हाथ में , उसी को हथियार बनाओ ।
France और Germany में शान्ति दूत truck drivers ने अपने truck को ही शांति फैलाने का हथियार बना लिया है । अपना ट्रक लोगों की भीड़ पे चढ़ा दो ……. कुछ लोगों को कब्रिस्तान के शांतिपूर्ण माहौल में शान्ति से अपनी अपनी कब्र में लिटा दो……..

पिछले एक महीने में कानपुर के आसपास ये दूसरी घटना हो गयी ।
दोनों में ट्रेन सुबह 3 से 5 बजे के बीच पटरी से उतर गयी ।
120 kmph की स्पीड से दौड़ती रेल को derail करने का जुगाड़ सिर्फ 500 रु में बनाया जा सकता है ।
देश भर में फैली हज़ारों km लम्बी रेल पटरियों की रखवाली नहीं की जा सकती ।

कल रात कानपुर के पास रूरा में जो derailment हुआ उसकी इस angle से भी जांच होनी चाहिए कि ये काम शांति दूतों का तो नहीं ।
रूरा में किसी ने शांति पाठ तो नहीं किया ??????

रोज़गार का रास्ता विकास से निकलता है ।

हमारे इदर एक कहावत कहते है
बिल्ली को सपने में बी छीछ्ड़े दीखते हैं ।
छीछ्ड़े ……. मने कसाई जब मांस बेचता है तो उसमे से कुछ टुकड़े जो बेकार बच जाते हैं उन्हें छीछ्ड़े कहते हैं । एक अच्छी बिल्ली को हमेशा छीछ्ड़े पे focus करना चाहिए । बकरे पे नहीं ।

मोदी जी ने 2014 के लोस चुनाव के run up में कहा कि विदेशों में इतना काला धन जमा है कि उसे अगर देश में वापस ला के विकास कार्यों पे खर्च किया जाए तो हर हिन्दुस्तानी के हिस्से 15 लाख रु आयेगा ।
बस दीख गया बिल्ली को छीछ्ड़ा ……. मोदी हर आदमी के खाते में 15 लाख रु जमा कराएगा ।

मोदी ने 2014 में कहा ……. 5 करोड़ लोगों को रोजगार …….. बिल्ली को दीख गया छीछ्ड़ा ……..
पूछ रहे हैं कब मिलेगी 5 करोड़ लोगों को सरकारी नौकरी ? बिल्ली की dictionary में रोजगार मने सरकारी नौकरी ।

इधर मोदी जी का मूलमन्त्र है ……. विकास से रोजगार ।
skill development करो रोजगार पाओ ।
उद्यम करो ……. रोजगार पाओ ।
मुद्रा बैंक से 50,000 से ले के 10 लाख तक का लोन लो …….. स्वरोजगार करो ……. entrepreneur बनो ……. खुद रोजगार पाओ , समाज में 10 और लोगों को रोजगार दो ।
infrastructure बनाओ ……. उस से अपने आप रोजगार का सृजन होगा ।
गुजरात में पटेल की मूर्ति …….
मुंबई में शिवा जी की मूर्ति …..
ये दोनों बहुत बड़े tourist attraction होंगे । हर साल लाखों tourist आयेंगे इन्हें देखने । कितना रोजगार मिलेगा लोगों को ?

उत्तराखंड की पूरी economy ही चारधाम पे निर्भर करती है ।
चारधाम मने बदरीनाथ केदारनाथ गंगोत्री और यमुनोत्री ……… ऋषिकेश से आगे ये चारों धाम कुल 900 km की यात्रा है । आज तक इस पूरे रूट की इतनी दुर्दशा थी कि पूछो मत । सड़कों का बुरा हाल । यात्रा पे हमेशा अनिश्चितता की तलवार लटकी रहती है । कब रास्ता बंद हो जाएगा , कब आपकी गाडी खड्ड में चली जायेगी , कब आपके ऊपर पूरा पहाड़ आ गिरेगा , कब पूरी की पूरी सड़क सैलाब में बह जायेगी ……. सब राम भरोसे ।
इसके बाद भी लाखों लाखों श्रद्धालु हर साल आते हैं उत्तराखंड ……. चार धाम की यात्रा करने …….
tourist जब आता है तो उस से समाज का हर वर्ग कमाता है । सड़क किनारे एक अंगीठी रख के चाय बेचता चाय वाला भी , भुट्टा भून के बेचने वाला भी , लाख रु down payment दे के किश्तों पे गाड़ी खरीद taxi चलाने वाला युवक भी और 3star 5 star hotel का मालिक भी ……..
सब कमाते हैं ……. सबको रोज़गार मिलता है ।
2013 की केदारनाथ त्रासदी ने उत्तराखंड को बर्बाद करके रख दिया । सडकें सैलाब में बह गयी ।
हज़ारों सैलानी मारे गए । श्रद्धालुओं ने चारधाम से मुह मोड़ लिया । पूरे प्रदेश की economy तहस नहस हो गयी । सैलानी को confidence ही न रहा । कौन जान देने जाएगा वहाँ । जान है तो जहान है ।
कल मोदी जी ने चारधाम express way परियोजना की आधारशिला रखी ।
900 km लम्बी चारधाम महामार्ग विकास परियोजना कुल 12000 करोड़ रु की लागत से बनेगी जिसमे मुख्य शहरों कस्बों के bye pass , Tunnels , Bridge और Flyover बनेंगे ।
इस परियोजना का सामरिक महत्त्व भी है क्योंकि गंगोत्री बद्रीनाथ रूट से indo china बॉर्डर पे सामरिक deployment और supply का अत्यधिक महत्वपूर्ण कार्य होगा ।
सरकार ने इसे 2018 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा है ।

ये परियोजना उत्तराखंड के लाखों युवाओं को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार उपलब्ध कराएगी ।

मोदी जी जानते हैं कि 125 करोड़ लोगों के देश में सबको सरकारी नौकरी नहीं दी जा सकती पर सबको रोज़गार ज़रूर दिया जा सकता है ।
रोज़गार का रास्ता विकास से निकलता है ।

मीडिया हरमजदगी कर रहा है ।

माँ कसम , ये गुज्जू दढ़ियल ……. भोत कमीना आदमी है ।
अगर आप समझते हैं कि इन्ने ये नोटबंदी 8 Nov को करी ….. अगर आप वाकई ऐसा समझते हैं तो आप भारी चूतिया ।
अजी ये तो इस से पहले कई बार कर चुका नोटबंदी ।
हमारे एक मित्र हैं । लखनऊ में रहते हैं । जात के कायस्थ हैं ।
पहले बैंक में थे । वहाँ से VRS ले ली ।
लोगों को देस परेम देस भकती का कीड़ा होता है ।
इनको देस भकती का अजगर था ।
2013 – 14 की बात है ।
बोले खेती करूंगा ।
लोगों ने समझा भांग के अंटे का असर है । सुबह तक उतर जाएगा ।
पर जब सुबह ए अवध हुई तो नशा और चढ़ गिया ।
भाई साब सपरिवार पहुँच गए लखनऊ से बाहर एक गाँव में ।
एक किसान से 2 एकड़ जमीन खरीद ली । दो चार एकड़ lease पे ली ।
और लगे भैया सब्जी की खेती करने ।
and यू know ये मोदी कम्बखत …… वहीं गुजरात से बैठ के सिरबास्तो जी की खेती पे नजर रखे हुए था । इधर सिर्बास्तो जी के खेत में पत्ता गोभी बोले तो Cabbage की फसल लहलहा रही थी …….. सिरबास्तो जी सपरिवार कंधे पे हल रखे सपरिवार ग्रुप song गाते थे …….. मेरे पुत्तर परदेस की धरती सोना उगले , उगले हीरे मोती ……. उत् परदेस की धरती ……. पर मोदी से सिरबास्तो जी के पलिवार की खुसी देखी न गयी । और उन्ने वहीं गाँधी नगर में ही बैठे बैठे ( उस समय CM थे ) कम्बखत यहाँ लखनऊ में नोट बंदी कर दी ।
और भैया नोटबंदी होते ही जो पत्ता गोभी हज़रत गंज के AC showrooms में 50 रु किलो बिक रही थी वो 50 पैसे किलो बिकने लगी । इस दाम में तो लदाई मने cartage मने खेत से सब्जी मंडी तक लाने का tractor trolly का भाडा तो छोडो खेत में तुड़ाई तक नहीं निकलती …….. अब सिरबास्तो जी के सामने विकट समस्या …… इस पत्ता गोभी का करें तो क्या करें ?
तय हुआ कि tractor से जुतवा दो खेत में ही …….. कम से कम सड़ के खाद तो बनेगी ।
पर उस से पहले गाँव के पशुओं को न्योत आये ……. पहले ढोर डंगर चर लें तो फिर जुतवायें ।
4 दिन गाँव गिरांव की गाय भैंसों ने दुई एकड़ पत्ता गोभी की दावत उड़ायी । फिर सारी फसल मिट्टी में मिला दी गयी ।
मित्रों ……. जो देवेन्द्र श्रीवास्तव जी के साथ हुआ वो कोई नयी बात नहीं । ऐसा हर साल होता है ।
आप कितनी भी उन्नत कृषि कर लें , प्रकृति अपना काम करेगी ।
कभी bumper crop आएगी कभी एक एक दाने को तरस जाएगा किसान ।
एक बार हमने प्याज लगाए । इतने छोटे छोटे प्याज हुए कि मुफ्त में भी कोई न ले ।
और एक बार उसी खेत में इतनी फसल हुई कि रखने की जगह न बची ।
और ये तकरीबन हर फसल में होता है । और मंडी में दाम तो भैया सीधे सीधे demand and supply पे निर्भर करती है । मुझे वो दिन भी याद है जब 1990 में पटियाला के बाज़ार में अंगूर 2 रु किलो बिका था । कारण ये था कि बगल के जिले संगरूर के अंगूर किसानों के पास इतनी bumper crop हुई कि अंगूर 2 रु किलो बिका ।
खेती किसानी में भाव का ऊपर नीचे होना आम बात है ।
किसी भी किसान से बात करके देखिये । किसान कभी Bumper crop की कामना नहीं करता ।
दाम हमेशा moderate yield में ही मिलता है ।
मैंने लखनऊ में वो दिन भी देखे हैं जब आज से 3 या 4 साल पहले लखनऊ की सड़कों पे A grade दसहरी आम 6 रु किलो बिका था ।

आज देश में कुछ मंडियों में अगर टमाटर सड़कों पे फेंका जा रहा है तो उसमे नोटबंदी का कोई रोल नहीं ।
मीडिया हरमजदगी कर रहा है ।

मूर्ती या तो ओरनजेब भाई जान की लगेगी वरना नई लगेगी ।

पृथ्वी राज कपूर की नवासी करीना कपूर ने अपने नवजात बेटे का नाम रख दिया तैमूर ।
फेसबुक पे चिहाड़ मची है । इतने कुख्यात हत्यारे के नाम पे अपने बच्चे का नाम रखता है कोई भला ?

उधर महाराष्ट्र सरकार मुंबई में महाराज छत्रपति शिवाजी की मूर्ति / स्मारक बनवाने जा रही है ……. 3600 करोड़ रु खर्च होंगे ।

टीवी पे चिहाड़ मची है । सुबह से मुहर्रम मनाया जा रहा है । बड़े बड़े दिग्गज धुरंधर इसे tax payers के पैसे का collosal .misuse मने करदाताओं के पैसे की भारी …… भोत भारी मने भोत भोत जादे भारी …… मने विराट दुरुपयोग हो रिया है ।

बात भी सही है …… 500 साल पहले पैदा हुआ और मर मरा गया …… ऐसे आदमी की मूर्ती लगाने की चूतियापंती क्यों कर रहा है देश ?
अबे मूर्ती लगानी है तो भेन मायावती की लगाओ …… उनके गुरु कांशी राम की लगाओ …… भोत करो तो आंबेडकर की लगा दो ……. ये राणा परताप और सिबा जी की क्यों लगाते हो ?
अबे मोतीलाल नेहरू की लगाओ , जवाहर लाल की लगाओ , इंदिरा गाँधी की लगाओ , राजीव गांधी की लगाओ , अबे सोनिया गाँधी की मूर्ती लगाओ ……. ये सेक्युलर लोग हैं ….. ये शिवा जी और राणा प्रताप जैसे third class outdated आदमियों की मूर्ती लगाओगे ? दोनों कम्बखत साम्प्रदायिक आदमी थे …… एक अकबर से लड़ता रहा ता उम्र …… दूसरा औरन्ज़ेब से …… बताओ कित्ता सरीफ लौंडा था अपना औरन्जेब ……. सो सिम्पिल man …… सिम्पिल लिभिंग हाई थिंकिंग …. एंड सो सेक्युलर ??????
टोपी सिल के जीता था …… ऐसे निहायत सरीफ लौंडे से लड़ाई करता था जे सिवा जी ……. और उसकी मूर्ती लगाते हो बे ? ब्लडी कमूनल पीपुल ……. अपने अकललेस भैया को अभी पता चल जाए कि ओरनजेब भाई जान को ऐसे harass किया इस सिबा जी ने तो अबी के अबी गुंडा act और MISA लगा के बंद कर दें और ओरनजेब भाई जान को एक करोड़ मुआवजा …….. लौंडो के लिए 4 flat और नोकरी दे दें अबी के अबी ……. और ये मोदी ….. ये ऐसे कमूनल पीपुल जो देस की गंगा जमुनी तहजीब को डिस्टर्ब कर रेला था …… उसका फोटो लगाता है साला मुंबई में …….
अबे मूर्ती और फोटू लगाना है तो ओरनजेब भाई जान का लगाओ न जो बेचारा विक्टिम था ? बेचारा minorty अल्पसंख्यक …….

अपुन लोग ये सिबा जी की खड़ी निंदा कर रेला है ।
मूर्ती या तो ओरनजेब भाई जान की लगेगी वरना नई लगेगी ।

UP में आंधी चल रही है । सब उड़ा ले जायेगी ।

मैं जब भी UP के आगामी विस चुनाव का विश्लेषण करता हूँ तो कहता हूँ ……. BJP क्लीन स्वीप करेगी । यदि कोई महाठगबंधन न हुआ ……. ऐसा ठगबंधन जिसमे हाथी साइकिल पे चढ़ जाए और उस हाथी पे राहुल बाबा बैठे हों ……. यदि ऐसा हो तभी BJP रुकेगी वरना UP में माया मुलायम का सूपड़ा साफ़ है .
मेरे मित्र पूछते हैं कि आपके इस आशावाद का कारण क्या है ?
दो कारण हैं ।
पहला जातीय समीकरण ।
UP में कोई व्यक्ति किसी पार्टी को भोट नहीं देता ।
जातियों के समूह किसी पार्टी को भोट करते हैं । व्यक्तिगत भोट मायने नहीं रखता । वो नगण्य होता है । चुनाव से पहले ये पता चल जाता है कि कौन सी जाति किस क्षेत्र में किसे वोट कर रही है । 2017 की विशेषता ये है कि भाजपा ने ये जातीय समीकरण साध लिए है ।
सवर्ण और गैर यादव OBC भाजपा खेमे में आ गए हैं । इसके अलावा दलितों में भी गैर चमार जाटव दलित भोट बैंक में भाजपा ने बहुत बड़ी सेंध लगाई है ।
अब बचे यादव और चमार जाटव ……. तो पूर्वी UP की ये दशा है कि 20 से 30 % यादव चमार भी भाजपा को भोट देने का मन बना चुके हैं । भाजपा ने 2014 की तुलना में अपना जातीय जनाधार बढाया है । इसके अलावा Floating भोट का भी एक बहुत बड़ा हिस्सा POK में surgical Strike और नोटबंदी के बाद भाजपा के पक्ष में आया है । सवाल उठता है कि नोटबंदी से उपजी परिस्थितियाँ और उस से उत्पन्न मंदी कितना असर डालती है । वैसे यदि चंडीगढ़ के हालिया चुनावों का रुझान देखा जाए तो नोटबंदी से भाजपा को लाभ हुआ है और पंजाब की anti incumbency के बावजूद congress का सूपड़ा साफ़ हो गया जबकि केजरीवाल ने बेहद शातिराना चाल चलते हुए चुनाव से withdraw कर congress को walk over दे दिया था जिस से कि भाजपा विरोधी भोट का बँटवारा न हो और सारा भोट congress को मिले ……..
इसके बावजूद कांग्रेस का सूपड़ा साफ़ हो गया चंडीगढ़ में । इस से पता चलता है कि नोटबंदी से भाजपा को फायदा है नुकसान नहीं ।

अब मेरे आशावाद का दूसरा कारण है समाजवादी कुनबे की कलह ।
नोटबंदी के बाद अचानक जादो कुनबे के कलह के समाचार आने बंद हो गए ।
पर कल अकललेस जादो ने फिर एटा में ताल ठोक दिया ।
उन ने अपने खेमे के 70 युवा MLAs से कही ……. टिकट की चिंता मति करो …… जाओ …… अपने अपने क्षेत्र में जाओ और सरकार के कामकाज का परचार परसार करो ……..
ये चचा सिपाल जादो को खुली धमकी है ।
माना जा रहा है कि ये भतीजे की ओर से बगावत का बिगुल है ।
ऐसे कयास लग रहे हैं कि अगर टिकट वितरण में अखिलेश की न चली तो सपा के कम से कम 200 बागी खड़े होंगे और जहां बागी नहीं भी होंगे वहाँ चाचा भतीजा भितरघात कर एक दुसरे को हरवायेंगे ।
इसमें पेंच ये है कि सपा के गैर मुस्लिम वोटर की पहली स्वाभाविक गैरसपा पसंद भाजपा है न कि बसपा ।
इस भितरघात से सपा votebank का एक बड़ा हिस्सा भाजपा में shift हो सकता है ।

इसके अलावा नोटबंदी के बाद से देश में जो माहौल है और सरकारी एजेंसियां जैसे बेरहमी से ताबड़ तोड़ छापे मार कार्यवाही कर रही हैं उस से जादो कुनबे में खलबली है । मोदिया कब घुस आयेगा घर में क्या पता ??????
ऐसे में सपा समर्थक एक बहुत बड़ी पूंजीपति लॉबी neutral हो गयी है । कयास तो यहाँ तक हैं कि अमित शाह का प्रेमपत्र पहुँच चुका है ।
भोजपुरी में कहावत है ……
आन्ही आवै बइठ गंवावे …….
मने जब जोर की आंधी आये तो कुछ सर सामान बटोरने के कोशिश नहीं करनी चाहिए ……. जो उड़ता है उड़ जाने दो ……. कहीं किसी कोने में दुबक के पहले जान बचाओ ….. जान बची रही तो फिर देखेंगे खोजेंगे ……
क्या गया क्या बचा ……
UP में आंधी चल रही है । सब उड़ा ले जायेगी ।

अगली स्ट्राइक के लिए मोदी की सेना तैयार है 

आजकल कांग्रेस के युवराज चूतिया नंदन श्री राहुल गांधी जी महाराज लोगों को ये बताते फिर रहे हैं की cash के रूप में कालाधन सिर्फ 6% है । शेष काला धन तो भैया property , gold और विदेशी tax heavens में जमा है ……..
अब ये कोई ऐसा भी गुप्त ज्ञान नहीं जो चूतियानंदन को पता हो पर सरकार को न पता हो ?
सरकार बखूबी जानती है जनाब । और ये जो कहा जा रहा है न , कि सरकार ने नोटबंदी से पहले तैयारी नहीं की …….. अजी जनाब , खूब तैयारी की …… बड़ी कायदे से तैयारी की …….
बाबा रामदेव के साथ रह के मैंने जो देखा समझा , उस से मुझे ये समझ आया कि इस नोट बंदी की तैयारी मोदी जी ने 2011 में शुरू कर दी थी । जी हाँ 2011 से । जब कि अभी वो गुजरात के CM थे उन्होंने देश का अगला PM बनने की तैयारी शुरू कर दी थी । देश की समस्याओं को समझना और उनके समाधान खोजना शुरू कर दिया था ।
मेरे पास बड़ी पुख्ता जानकारी है कि देश के एक मूर्धन्य economist जो कुछ दिनों के लिए पातंजलि आये हुए थे और बाबा रामदेव को economics का एक crash course करा रहे थे , उन्ही दिनों वो गुजरात में मोदी जी के भी वित्तीय सलाहकार थे ……. मोदी ने तैयारी 2011 से ही शुरू कर दी थी …… उन्होंने इन मामलों की गहरी समझ हासिल की है …… समस्या को समझा और फिर समाधान खोजे ।
2014 में शपथ लेते ही मोदी ने पूरे देश में जो गरीबों के जन धन खाते खोलने शुरू किये वो इसी नोटबंदी का हिस्सा था । पूरे देश में जो डेढ़ लाख किलोमीटर optical fibre cable बिछाने का जो काम हुआ वो देश को cashless बनाने के लिए net connectivity देने का एक हिस्सा है ।
काले धन पे स्ट्राइक कैसे होगी इसकी पूरी तैयारी की है मोदी ने ।
नोटबंदी के बाद अब अगला हमला बेनामी संपत्ति पे होना है ।
इसकी बिसात भी बिछ चुकी है ।
Benami Transactions (prohibition) Amendment Bill 2015 में लोकसभा ने पास कर दिया । 2014 में ही देश के सभी Sub Registrar को और Development Authorities को आदेश दे दिए गए कि 2006 के बाद से 30 लाख से ऊपर की सभी properties की registry का ब्योरा आयकर विभाग को भेजा जाए । ख़ास तौर पे High ways के किनारे खरीदी गयी संपत्तियों पे focus किया गया । सरकार के पास ऐसी पुख्ता जानकारियाँ थीं की Agra Delhi Highway , NH 24 और कुंडली मानेसर पलवल express way के किनारे किसानों की ज़मीनें औने पौने दामों में खरीद के बहुत मोटे मुनाफे के साथ बेचीं गयी हैं । ये सारी property बेनामी है । 2006-7 और 2011-12 में जब property बाज़ार में boom था तो उस समय registered सारी संपत्ति का 30 % से ज़्यादा बेनामी है ……..
सरकार ने बेनामी संपत्ति पे surgical Strike की तैयारी पूरी कर ली है ।
नया क़ानून बेहद सख्त है जिसमे बेनामी संपत्ति को जप्त करने के अलावा 25% panelty के साथ 7 साल की सज़ा का भी प्रावधान है । इसका मतलब ये कि यदि किसी ने अपने नौकर के नाम एक करोड़ का flat लिया है तो उस flat में तो अब मोदी जी रहेंगे , सेठ जी 25 लाख panelty देंगे और फिर खुद 7 साल जेल खटेंगे ।
आयकर विभाग ने 200 teams का गठन कर लिया है और वो बेनामी संपत्ति पे surgical strike के लिए एकदम तैयार हैं ।
इसके अलावा आजकल जो कालेधन पे छापेमारी चल रही है उसकी कागज़ी कार्यवाही के लिए सवा लाख retired आयकर अफसरों को संविदा पे नियुक्त किया जा रहा है । इसके अतिरिक्त एक लाख से अधिक नयी नियुक्तियां भी आयकर विभाग में की जा रही हैं ।
सरकार ने दागी बैंक कर्मियों और RBI कर्मियों की पहचान कर ली है । इसके अलावा 8 Nov के बाद जमा धन राशियों और सम्बंधित बैंक खातों को भी पहचान के black money धारकों और काले को सफ़ेद करने वालों की पहचान भी हो गयी है । आयकर विभाग अगले कई साल तक बेहद व्यस्त रहेगा ।
अगली सर्जिकल स्ट्राइक कभी भी हो सकती है ।
कभी भी ……. 1 जनवरी को भी …….
देश के प्रॉपर्टी बाज़ार मे पहले ही 30 % की गिरावट थी । मने 100 का माल 70 में बिक रहा था । इस स्ट्राइक के बाद 30 % और गिरेगा ।
मने 100 का माल 40 में बिकेगा ।
That will be the right time to invest in property ……
अगर आपके पास white money हो तो ……..
Continue reading अगली स्ट्राइक के लिए मोदी की सेना तैयार है