मोदी जी संकट को अवसर में बदलना बखूबी जानते हैं ।

मोदी जी एक किस्सा सुनाया करते थे 2014 से पहले ।
तब जबकि वो गुजरात के CM थे ।
गुजरात सरकार हर वर्ष एक नया कार्यक्रम हाथ में ले के उसपे युद्ध स्तर पे काम करती थी ।
तो एक साल गुजरात ने निर्णय लिया कि इस साल हम शहरी विकास वर्ष मनाएंगे ।
मने गुजरात के शहरों का काया कल्प करेंगे ।
municipal corporations को सुधारेंगे । शहर साफ़ करेंगे । कूदा कचरा निस्तारण ….. यातायात ….. अतिक्रमण हटायेंगे ।
सरकारी घोषणा हो गयी । notification जारी हो गयी ……. करीब 15 दिन बाद प्रदेश भाजपा अध्यक्ष भागे भागे आये । बोले हुज़ूर गलती हो गयी …….
क्यों ? क्या हुआ ?
हुज़ूर इस साल के अंत में पूरे गुजरात में corporations और स्थानीय निकायों के चुनाव हैं ।
आप सड़कों से अतिक्रमण हटाने जा रहे हैं ……. पूरे प्रदेश में हज़ारों नहीं लाखों लोग प्रभावित होंगे …… विस्थापित होंगे ……. सालों से सड़कों पे काबिज लोग जब हटाये जायेंगे तो बवाल करेंगे …… उनकी रोजी रोटी प्रभावित होगी ……. वोटर नाराज होगा ……. नगर निगम चुनाव में सूपड़ा साफ़ हो जाएगा …….
मोदी जी ने कहा , ये सब तो पहले सोचना था । अब तो तीर निकल गया तरकश से …… अब जाओ और public को समझाओ कि यदि सड़क चौड़ी होगी तो आपका ही फायदा है …….
नगर साफ़ सुथरे होंगे तो आपका ही फायदा है ……..
मोदी संकट को अवसर में बदलने में माहिर हैं ।
उन्होंने जी जान लगा दी । सडकों से अतिक्रमण हटाये गए । अकेले अहमदाबाद में ही सड़कों पे बने सैकड़ों मंदिर मस्जिद पीर मजार तोड़े गए ……. बहुत हाय तौबा मची …… सडकें खाली कराई गयी …… शहरों में सैकड़ों Fly over बनने शुरू हुए ……. द्रुत यातायात के लिए rapid transport lane बनी ……. 6 महीने में यातायात दुरुस्त हो गया ……. शहरियों को पहली बार अहसास हुआ कि हमारे शहर की सड़क इतनी चौड़ी …. साल बीतते बीतते शहर चम् चम् चमकने लगे …….
जनता बेवक़ूफ़ नहीं ……. अपना भला बुरा समझती है ……..
उस साल हुए स्थानीय निकायों और कारपोरेशन चुनाव में भाजपा ने कांग्रेस का सूपड़ा ही साफ़ कर दिया …… खाता तक न खुला …….

जब से नोट बंदी हुई उसके बाद जितने भी चुनाव या उपचुनाव हुए देश भर में ……. भाजपा जीती है ।
आज चंडीगढ़ भी जीत लिया ।
जनता अपना भला बुरा सब जानती है ।
मोदी जी संकट को अवसर में बदलना बखूबी जानते हैं ।
पंजाब की तस्वीर धीरे धीरे साफ़ हो रही है ।

Comments

comments

सुभाष

हाहाहा, और मायावती इस विमुद्रिकरण को हथियार बनाकर उप्र जीतने के सपने देख रही।

नरेश प्रताप सिंह

वो लोग जो ये कहते है कि मोदी जी पूरी तैयारी नही की वो लोग ये भूल गये मोदी जी क्या बिना तैयारी के ही पिछले तीन टर्म से गुजरात के मुख्यमंत्री रहे ?

Your email address will not be published. Required fields are marked *