भीलवाड़ा की पप्पू की कचोरी

पिछले एक साल में 3 बार भीलवाड़ा राजस्थान जाने का मौक़ा मिला ।
मैंने अबतक जो थोड़ा बहुत हिन्दुस्तान घूमा देखा …….. और खाया पीया …….
मैं कह सकता हूँ कि भारतीय भोजन में राजस्थानी cuisine अद्भुत है ।
मज़े की बात ये कि राजस्थान में भी विभिन्न क्षेत्रों यथा मेवाड़ मारवाड़ शेखावटी हाड़ौती ……. सबका रहन सहन खान पान अलग है । ढेर सारी समानताओं के बाद भी बहुत भिन्न ।
एक समानता तो ये दिखी कि घी तेल का मुक्त हस्त से और विशाल ह्रदय से प्रयोग । मने राजस्थानी भोजन बहुत रंग बिरंगा होता है । हल्दी और मिर्च का प्रयोग ज़्यादा होता है । अब चूँकि घी तेल खूब है और उसमे हल्दी और लाल मिर्च ठोक के पड़ी हो तो dish तो रंगीन बनेगी ही ।
मिर्च के प्रति राजस्थान की दीवानगी मुझे बहुत fascinate करती है ।
उसमे भी खासकर भीलवाड़ा ……. यूँ तो पूरे राजस्थान में ही मिर्च खूब खायी जाती है पर भीलवाड़ा की तो बात ही निराली है । आप मिर्च खाने के कितने भी शौक़ीन हों पर भीलवाड़ा में आपको अपने मेजबान से कहना ही पड़ता है ……. भैया …. बहिन जी …… मिर्च ज़रा सम्हाल के …….
भीलवाड़ा में तो बाकायदा एक मिर्ची बाज़ार है । सब्जी मंडी में और किराना बाज़ार में बीसियों किस्म की हरी मिर्च और लाल मिर्च मिलती हैं । सिर्फ रंग वाली , हल्की तीखी , तीखी , और बेहद तीखी …… इसी तरह हरी मिर्च में भी विभिन्न प्रयोगों में आने वाली मिर्च मिलेगी आपको । फीकी , बहुत हलकी तीखी , सामान्य और ज़हर जैसी तीखी …….. सब्जी मंडी में मिर्च की जो variety मैंने भीलवाड़ा में देखी वो हिन्दुस्तान में और कहीं नहीं देखी । यूँ मिर्च खाने के शौक़ीन तो जोधपुर वाले भी कम नहीं पर भीलवाड़ा की बात ही कुछ और है ।
तो इस बार भैया हुआ यूँ कि भीलवाड़ा जा के करेला नीम चढ़ गया ।
मिर्च का शौक़ीन मैं और मेरी होस्ट लक्ष्मी दी ……. वो मुझसे बहुत आगे ।
पिछली बार जब गए तो उन्होंने हमारे लिए राजस्थानी कचोरी मंगाई । साथ में थे भाई राजेश जी सेहरावत , पुष्कर भाई और अवनीश जी ……
लक्ष्मी ने कचोरी परोसी ……. तो राजेश भाई चूँकि हरियाणवी ठहरे …… और हरियाणा वाले तो मिर्च के नज़दीक से भी न गुजरते । उन ने surrender कर दिया ……. म्हारे बस की ना है ।
पुष्कर भाई लखनवी मिजाज़ के हैं …… लखनऊ में तीखेपन की कोई जगह नहीं ……..
अवनीश बेशक गोरखपुर के हैं और गोरखपुरिये मिर्च खा लेते हैं पर उन्होंने भी थोड़ी सी खा के हाथ खड़े कर दिए ( शायद पान मसाले के कारण )
अपन पूरी खा गए और ये भी कहा कि अबे क्या ख़ाक तीखी है …….. एक दम सामान्य मिर्च है …….
लक्ष्मी ने कहा , दादा ये तो बिना मिर्च की थी ।
अभी मंगाती हूँ भीलवाड़ा की मशहूर पप्पू की कचोरी ……..
और आई जो भैया पप्पू की कचोरी …….
पहला टुकडा खाया ……. हाँ …… इसे कहते हैं तीखी कचोरी …….
वाह क्या बात है ….. वाह ……
आधी कचोरी खाते खाते वो अपना रंग दिखाने लगी …….. और फिर उसके बाद तो आँख नाक से पानी और कानों से धुआँ ……. वाह क्या कचोरी थी …….. किसी तरह खा के ख़तम की …….
फिर शुरू हुआ उसका postmortom बोले तो विश्लेषण …….
क्या खासियत है पप्पू की कचोरी की ……..
उसकी पीठी बोले तो filling में बढ़िया हींग , और बेसन , मूंग की दाल , अदरक , लाल मिर्च , लौंग और ढेर सारी काली मिर्च ……. खूब सारी ……. वो तीखापन लाल मिर्च का नहीं बल्कि काली मिर्च का था ……..
आपको भी यदि कभी भीलवाड़ा जाने का मौक़ा मिले तो पप्पू की कचोरी ज़रूर try कीजिये ।
पूरी न सही …… एक टुकडा ही सही …….

Comments

comments

कौशल त्रिपाठी

सर जी , भीलवाडा शहर के ही आजादनगर इलाके मे हे “डांगी फैक्ट्री” । डांगी फैक्ट्री के बाहर हे एक समोसा वाला । फैक्ट्री के मजदूरों की उससे यही फरमाइश रहती हे की “”ऐसा बना की खाते ही मूत उतर जाऐ”” ।

आगे आप खुद समझदार हैं ।

veer

dada me b bhilwara se hi hu.lkn bhilwara se tez mirchi to kota vale khate h.khte h chambal ka pani mirchi mangta h.josh paida krta h or bat ya bina bat k h ladai k liy taiyyar ho jate h vha k log.

anjali maheshwari

बिल्कुल 👍👍 राजस्थान में कोटा की कचोरी का कोई मुकाबला नही ☺

राज कुमार जाँगिड़

पप्पु की कचौरी जब तक में खा नहीं लेता तब तक दिन सफल नहीं होता

सागर नाहर

अगली बार भीलवाड़ा जाएं तो हरिभाई की कचौरी और शोभा के आलू बड़े भी चखें। ये दोनों भी भीलवाड़ा में बहुत पुराने और प्रसिद्द हैं

लछु सेन

दादा फिर भीलवाड़ा आओ तो मेरे पार्लर पे दाढ़ी सेट करवाने जरूर आना आपका भक्त लछु सेन

Hasit Hemani

खा सको तो मिर्च जैसा टेस्ट किसी में नहीं. सुंदर, जकड़ के रखने वाली लेखनी

रमेश शर्मा

दद्दा
कचोरी तो ठीक है परंतु जयपुर भी आने वाले थे आप,सस्नेह

Deepak pareek

अजित जी ।। आओ वापस भीलवाड़ा जल्द ।।
भारत विकास परिषद वाले कार्यक्रम में हम आ नही सके ।।
मिलना हो जाता ।।

Ashish Khetan

जयपुर में रावत मिष्ठान भंडार की प्याज की कचोरी खाके देखिये कभी…फिर कभी भी जयपुर जायेंगे तो अपनेआप कदम उधर बढ़ने लगेंगे

Your email address will not be published. Required fields are marked *