बंगाल के हिन्दुओं …… खुद ही खडा होना पडेगा ……..

एकदा जम्बू द्वीपे भारत खंडे बंगाल राज्ये एक औरत रहती थी ।
एक दिन एक गुंडा बदमाश बलात्कारी ने उसको पकड़ लिया और लगा उसका बलात्कार करने ।
और वो लगी हाय हाय करने …… ohh my god ……
उसकी ये हाय तौबा चीखो पुकार मेरे जैसे , दूसरों के फटे में टांग अड़ाने वाले ने सुनी …… और उसने भैया ….. उठाया जो लट्ठ ….. और दौड़ा उस बेचारी अबला को बचाने ……
वहाँ पहुँच उस बलात्कारी को उसने दिया जो एक लट्ठ जमा के ……. तो वो तो लोट गया ……. हाय मार डाला रे …… तब तक वो औरत उठी और उसने उस लट्ठ वाले कू धर पकड़ा कालर से …… तू कौन बे ? कायकू मारा तूने इस बेचारे कू …… सारा मजा खराब कर दिया …….
और फिर वो उस बलात्कारी कि सेवा टहल में लग गयी …… आपको चोट तो नहीं आई ? सतियानास जाए इस नासपीटे का ……. इसने आपको डिस्टर्ब किया …….
पिलिज continue ……
तू चल बे …… फूट यहाँ से …… हवा आने दे …… पता नहीं कहाँ कहाँ से चले आते है ……
Sir ….. You please continue ……..

तो मितरों ……. बंगाल के हिन्दू मोमता दी के राज में मजा ले रहे हैं ……लेने दो …..
वो हाय हाय नहीं …… आह आह कर रहे हैं ……. करने दो …….

भीलवाड़ा के मोमिनों ने सिर उठाया ……. कल हिन्दुओं ने पटक के पेल दिया ……
बंगाल के हिन्दुओं को दर्द होगा तो खुद उठेंगे ।
God helps those who help themselves …….
जिसकी फटेगी उसको ही उठ के खुद की सिलनी पड़ेगी …….
हम कब तक सिलेंगे ?

बंगाल के हिन्दुओं …… खुद ही खडा होना पडेगा ……..

Comments

comments

Purushottam

Dadda aisi baat nahi hai
Yahan ke Hindu kaafi jagruk hain lekin ye Bangladeshi migrants ke karan mullon ka ratio kaafi badh gaya hai aur aapko ye baat to maanni hi paregi ki jab
“Muslim ki sankhya kam ho to Hindu Muslim Bhai Bhai aur jab Hindu ki sankhya kam hone lage to Tu Hindu mai kasai.”

Kewal Bengal hi nahi poora vishwa is baat ko bhali bhaanti jaanta hai ki jaise hi kisi bhi kshetra vishesh me musalmano ki sankhya badhi hai wo kshetra ashant ho gaya hai, kuchh apawadon ko agar chor dein to

Your email address will not be published. Required fields are marked *